गंभीर रोगों से ग्रस्त और 60 वर्ष से अधिक नहीं होंगे होम आइसोलेट, जानें वजह

- सीएमएचओ ने बताई बरती जाने वाली सावधानियां
- जिले में 74 मरीज है होम क्वॉरंटीन

By: Dinesh Sahu

Published: 20 Sep 2020, 02:42 PM IST

छिंदवाड़ा/ होम आइसोलेशन की पात्रता ऐसे मरीजों को है, जो कि लक्षण रहित अथवा अत्यंत कम लक्षण हो, जैसे मात्र सर्दी, खांसी, गले में खराश, शरीर का तापमान 100 डिग्री फैरेनहाइट से कम होना, एसपीओटू 90 प्रतिशत से अधिक होना समेत अन्य बिंदू शामिल है।

वहीं ऐसे कोविड पॉजिटिव व्यक्ति जिनकी आयु 60 से अधिक है तथा डायबिटीज, हाइपरटेंशन, अंग प्रत्यारोपण, कैंसर, एचआइवी आदि गंभीर बीमारी से पीडि़तों को संस्थागत आइसोलेशन किया जाता है। बताया जाता है कि जिले में फिलहाल 74 मरीज होम क्वॉरंटीन में है। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. जीसी चौरसिया ने इस संदर्भ में बरती जाने वाली सावधानियों की विस्तृत जानकारी दी है।

उन्होंने बताया कि होम आइसोलेशन मरीज का उपचार करने वाले डॉक्टर द्वारा प्रमाणित परीक्षण किया गया हो, मरीज के लिए पृथक भोजन, शौच सहित अन्य सुविधाएं मौजूद होना, सामाजिक, धार्मिक कार्यक्रमों में शामिल नहीं होना, संतुलित आहार, तरल पेय पदार्थों का सेवन करना, समुचित आराम करना, व्यक्तिगत सुरक्षा एवं साफ-सफाई आदि पर ध्यान दिया जाना आवश्यक है।


युवा करें संक्रमित वृद्ध की देखभाल -


डॉ. चौरसिया ने बताया कि वृद्ध संक्रमितों की देखभाल घर के युवा सदस्य को करना बेहतर होगा तथा ट्रीपल लेयर मॉस्क का उपयोग करना चाहिए। मरीज को भोजन, पानी, दवा आदि देते समय सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखना तथा पांच से दस दिन में समीप के फीवर क्लीनिक में जांच कराना और जरूरत पडऩे पर जिलास्तरीय कोविड कंट्रोल रूम में सम्पर्क करना चाहिए।

COVID-19
Dinesh Sahu
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned