Earth hour day: रात में एक घंटे बंद रखी बिजली, यह थी वजह

लोगों ने अपने घरों में बिजली से चलने वाले उपकरण बंद कर ऊर्जा संरक्षण में अपना योगदान दिया।

By: ashish mishra

Published: 29 Mar 2020, 01:13 PM IST


छिंदवाड़ा. वन्यजीव एवं पर्यावरण संगठन (डब्ल्यूडब्ल्यूएफ) के आव्हान पर शनिवार को कोरोना वायरस के चलते लॉकडाउन के बीच शनिवार रात 8.30 से 9.30 बजे तक शहर में अर्थ ऑवर डे मनाया गया। इस दौरान लोगों ने अपने घरों में बिजली से चलने वाले उपकरण बंद कर ऊर्जा संरक्षण में अपना योगदान दिया। लोगों का कहना था कि ऊर्जा की बचत कर हम धरती को सुरक्षित रख सकते हैं। 2020 में अर्थ ऑवर का यह 14वां संस्करण था और इसकी थीम ‘जलवायु परिवर्तन को थामने के कदम और सतत विकास’ है। अर्थ ऑवर डे की शुरुआत वन्यजीव एवं पर्यावरण संगठन डब्ल्यूडब्ल्यूएफ ने वर्ष 2007 में की थी। डब्ल्यूडब्ल्यूएफ के जिला समन्वयक विनोद तिवारी ने बताया कि अर्थ ऑवर डे पर लोगों से रात में एक घंटे बिजली से चलने वाले उपकरण को बंद करने का आव्हान किया गया था। लोगों ने इस अभियान को सफल बनाया। एक घण्टा अपने घरों में स्वैच्छिक रूप से विद्युत उपकरण बंद रखकर अपना योगदान दिया। अर्थ ऑवर और लाइट्स आउट हमारे ग्रह की रक्षा और संरक्षण के लिए एक बाध्यकारी संकल्प का वैश्विक प्रतीक बन गए हंै। इस वर्ष अर्थ आवर कोरोना महामारी के कारण किसी सार्वजनिक स्थल पर नहीं आयोजित किया गया। शनिवार को अर्थ आवर 2020 को डिजिटल रूप में मनाया गया। लोगों ने इस अवसर पर ग्रह की रक्षा करने का संकल्प लिया। इसके अलावा अपना मैसेज एवं वीडियो बनाकर उसे फेसबुक, वाट्सएप एवं इंस्टाग्राम पर भेज कर लोगों को जागरूक भी किया।इसी कड़ी में डीडीसी के नेचर क्लब एवं एनएसएस प्रभारी रविंद्र नाफड़े एवं एनएसएस स्वयंसेवकों ने अर्थ आवर दिवस को डिजिटल रूप में मनाते हुए बिजली बंद रखकर इस अभियान में सराहनीय सहयोग प्रदान किया।

ashish mishra Desk
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned