दूध विक्रेताओं पर मंडरा रहा आर्थिक संकट

पशु मालिकों से प्रतिदिन दूध लिया जा रहा है। बदले में उन्हें सिर्फ आश्वासन ही दिया जा रहा है।

By: sanjay daldale

Published: 04 Jan 2018, 01:15 AM IST

मो. रफीक खान, दातलावादी
दातलावादी. जनपद पंचायत जुन्नारदेव की ग्राम पंचायत दातलावादी के महिला दुग्ध सहकारी मर्यादित समिति में विगत तीन माह से दूध विक्रेताओं का भुगतान नहीं किया गया है। पशु मालिकों से प्रतिदिन दूध लिया जा रहा है। बदले में उन्हें सिर्फ आश्वासन ही दिया जा रहा है।
राशि नहीं मिलने से दूध विक्रेताओं को परिवार का पालन पोषण करने में आर्थिक परेशानी हो रही है। इसको लेकर जिम्मेदार भी ध्यान नहीं दे रहे हैं। ऐसे में आने वाले समय में डेयरी बंद होने की कगार पर दिखाई दे रही है। जिसको लेकर पशु मालिकों में रोष व्याप्त है।
एक तो पशु मालिकों से सस्ती दर पर दूध की खरीदी की जाती है उस पर समय पर भुगतान नहीं किया जा रहा है। बार-बार महिला दुग्ध सहकारी मर्यादित समिति के पदाधिकारियों कहने पर भी समस्या का समाधान नहीं हो रहा है। समिति के सचिव को भी विगत दो माह अक्टूबर-नवंबर से भुगतान एवं मानदेय राशि प्राप्त नहीं हुआ है। जानकारी के अनुसार दूध विक्रेताओं द्वारा 5 से 20 लीटर तक दूध डेयरी ले जाकर देते है लेकिन बदले में हमें कई दिनों से खाली हाथ लौटाया जा रहा है। दिनों दिन हमारी आर्थिक स्थिति खराब हो रही है। परिवार का पालन-पोषण करना मुश्किल हो रहा है। डेयरी बंद होने की कगार पर दिखाई दे रही है।
अब तो पशु मालिकों का कहना है कि जो दूध बेचा है उसका भुगतान जल्द से जल्द किया जाए। पिछले दो-तीन माह से दूध विक्रेताओं का भुगतान नहीं इसका जवाब भी समिति संचालकों को पास नहीं है। ऐसी लापरवाही के कारण पशु मालिकों अब दूध सप्लाई बंद करने का मन बना रहे हैं। ऐसे में आगामी समय में महिला दूध सहकारी मर्यादित समिति दातला में बंद होने की कगार पर पहुंच जाएगी। ग्रामीणों ने उच्च अधिकारियों से इस पर ओर ध्यान देने की अपेक्षा है।

sanjay daldale Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned