Education: स्कूल खुलने से पहले स्काउट गाइड गतिविधियों की सताने लगी चिंता

जिला शिक्षा अधिकारी ने 30 अगस्त तक राशि जमा करने के लिए जारी किए निर्देश

By: prabha shankar

Published: 24 Jul 2021, 10:54 AM IST

छिंदवाड़ा। अभी स्कूल खुले नहीं हैं, लेकिन स्काउट गाइड की फीस लेकर उसकी गतिविधियां संचालित करने के निर्देश जरूर जारी हो रहे हैं।
जिला शिक्षा अधिकारी द्वारा पिछले दिनों शासकीय, अशासकीय, उमावि, एवं हाई स्कूल के प्राचार्र्यों को निर्देश जारी कर विद्यार्थियों की संख्या के अनुसार राशि जमा करने को कहा गया है।
निर्देश के अनुसार अशासकीय प्राथमिक एवं माध्यमिक स्कूलों में विद्यार्थियों की संख्या 100 से अधिक होने पर दल पंजीयन राशि के लिए 30 रुपए, कोटामनी 240 रुपए, वयस्क कोटामनी 70 रुपए और अंशदान सहित कुल 340 रुपए लिया जाना है, जबकि उमावि में दल पंजीयन राशि 30 रुपए, कोटामनी 432 रुपए, वयस्क कोटामनी 70 रुपए एवं पांच प्रतिशत अंशदान सहित कुल 532 रुपए लिए जाएंगे। विद्यार्थियों की संख्या 200 से अधिक होने पर यह राशि 676 रुपए निर्धारित की गई है। पूरी राशि एकल ड्राफ्ट या चेक बनाकर जिला कमिश्नर स्काउट के नाम से जिला शिक्षा अधिकारी छिंदवाड़ा स्काउट एवं गाइड कक्ष में जमा करनी होगी। दलों के गठन के बाद गतिविधियां ऑनलाइन संचालित की जाएंगी।

2010 के पत्र का आधार
जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय द्वारा जारी पत्र का संदर्भ लोक शिक्षण के पत्र 28/08/2010 के हवाले से लिया गया। साथ ही संयुक्त संचालक लोक शिक्षण सम्भाग जबलपुर के एक जुलाई 2021 के पत्र को भी आधार बनाया गया। गौरतलब है कि यह निर्देश सत्र 2020-21 एवं 2021-22 के लिए दिए गए हैं, जबकि शासन के आदेश के अनुसार विद्यालयों को इस दौरान सिर्फ शिक्षण शुल्क ही लेने के निर्देश हैं।

पत्र में बताया निरीक्षण कौन करेगा
जिला शिक्षा अधिकारी द्वारा जारी पत्र में बताया गया है कि जिला संगठन स्काउट नरेंद्र कुमार शर्मा द्वारा स्कूलों में समय-समय पर स्काउट एवं गाइड दलों का निरीक्षण किया जाएगा। इन्हें पूर्ण सहयोग प्रदान करें। स्काउट एवं गाइड सम्बंधी गतिविधियों के संचालन के लिए इनके नम्बर पर सम्पर्क करें।

अभी तो सिर्फ शासकीय स्कूलों की फीस ही जमा करनी है। प्रति छात्र दस रुपए फीस ली जाती थी। दो वर्ष से नहीं ली जा रही है। अशासकीय विद्यालयों के लिए पत्र तैयार किया जा रहा है। दल के अनुसार करीब 500 रुपए प्रति विद्यालय से लिए जाते हैं।
नरेंद्र कुमार शर्मा, समन्वयक स्काउट एवं गाइड जिला शिक्षा विभाग

प्राथमिक व माध्यमिक स्तर पर फीस लेने का कोई प्रावधन नही है। यदि ऐसा कोई आदेश जारी हुआ होगा तो वह गलती से प्रिंट हो गया होगा।
संजय दुबे, डीपीसी

prabha shankar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned