scriptEducation: Exam Time Table Released | Education: छात्रसंघ के ज्ञापन सौंपते ही हरकत में आया विश्वविद्यालय, परीक्षा समय-सारणी जारी, फिर भी विरोध | Patrika News

Education: छात्रसंघ के ज्ञापन सौंपते ही हरकत में आया विश्वविद्यालय, परीक्षा समय-सारणी जारी, फिर भी विरोध

परीक्षाएं 13 से 16 जून तक आयोजित की जाएंगी।

छिंदवाड़ा

Published: June 07, 2022 01:23:23 pm

छिंदवाड़ा. राजा शंकर शाह विश्वविद्यालय ने संबद्ध कॉलेजों में पीजीडीसीए पाठ्यक्रम में अध्ययनरत विद्यार्थियों को राहत देते हुए प्रथम सेमेस्टर की परीक्षा समय-सारणी जारी कर दी है। परीक्षाएं 13 से 16 जून तक आयोजित की जाएंगी। हालांकि लगातार चार दिनों तक परीक्षा आयोजित करने के निर्णय का भी विरोध शुरु हो गया है। बता दें कि छिंदवाड़ा जिले के पांच कॉलेज में विश्वविद्यालय से संबद्ध पीजीडीसीए पाठ्यक्रम संचालित हो रहा है। विद्यार्थियों को वर्ष 2021 में प्रवेश दिया गया था, लेकिन कई माह बाद भी प्रथम सेमेस्टर की परीक्षाएं आयोजित नहीं हुई। जबकि माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता संचार विश्वविद्यालय, भोपाल वर्तमान में द्वितीय सेमेस्टर की परीक्षाएं आयोजित कर रहा है। परीक्षा में हो रही देरी को लेकर विद्यार्थी आक्रोशित हो रहे थे। इस मुद्दे को पत्रिका ने प्रमुखता से उठाया। वहीं छात्र संगठनों का भी ध्यान दिलाया। परिणाम यह रहा कि सोमवार को छात्र संघ ने विश्वविद्यालय पहुंचकर ज्ञापन सौंपा और परीक्षा जल्द से जल्द कराने की मांग उठाई। दोपहर में विश्वविद्यालय ने पीजीडीसीए के परीक्षा के लिए समय-सारणी जारी कर दी। हालांकि अभी विश्वविद्यालय ने राजमाता सिंधिया गल्र्स कॉलेज के छात्राओं की समस्या का समाधान नहीं किया है।
garl_college.jpg
गल्र्स कॉलेज की समस्या का नहीं हुआ समाधान
सोमवार को विश्वविद्यालय को सौंपे ज्ञापन में छात्र संघ ने राजमाता सिंधिया गल्र्स कॉलेज की समस्या समाधान की भी मांग की है। छात्र नेता इंद्रजीत पटेल ने बताया कि विश्वविद्यालय ने पहले से कोई सूचना नहीं दी थी। गल्र्स कॉलेज में स्नातकोत्तर में अध्ययरत छात्राओं ने भी पीजीडीसीए में दाखिला ले लिया और अब विश्वविद्यालय इन्हें अपात्र बता रहा है। छात्र संघ का कहना है कि विश्वविद्यालय छात्रहित में जल्द ही कोई निर्णय नहीं लेता है तो उग्र आंदोलन किया जाएगा, जिसका जवाबदार विश्वविद्यालय प्रशासन होगा। ज्ञापन सौंपने के दौरान छात्रसंघ के अनिरुद्ध देशवाडे, कुणाल शर्मा, कामेश उइके, रोहित बंशकार सहित अन्य विद्यार्थी मौजूद रहे।
पात्र, अपात्र की नहीं सौंपी सूची
राजमाता सिंधिया गल्र्स कॉलेज ने राजा शंकर शाह विश्वविद्यालय ने पीजीडीसीए परीक्षा के लिए पात्र एवं अपात्र छात्राओं की लिस्ट मांगी थी, जिसे सोमवार को भी विश्वविद्यालय ने उपलब्ध नहीं कराई। गल्र्स कॉलेज का कहना है कि विश्वविद्यालय जो आंकड़े दे रहा है वे हमारे दस्तावेज से मैच नहीं कर रहे हैं।
यह है मामला
राजा शंकर शाह विश्वविद्यालय ने राजमाता सिंधिया गल्र्स कॉलेज को सत्र 2021-22 में पीजीडीसीए पाठ्यक्रम संचालित करने के लिए 28 सितंबर 2021 को संबद्धता पत्र जारी किया था। इसके बाद कॉलेज में छात्राओं का दाखिला हुआ। पीजीडीसीए पाठ्यक्रम में में कई ऐसी छात्राओं ने भी दाखिला लिया जो स्नातकोत्तर में अध्ययन कर रही थी। अब विश्वविद्यालय इन्हें अयोग्य बता रहा है। विश्वविद्यालय का कहना है कि कोई भी परीक्षार्थी विश्वविद्यालय से आयोजित सत्र में दो परीक्षाओं में एक साथ सम्मिलित नहीं हो सकता है। जबकि शिक्षा से जुड़े जानकार एवं विद्यार्थियों का कहना है कि अगर ऐसा था जो स्थिति पहले स्पष्ट करनी थी।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Maharashtra Politics: एकनाथ शिंदे होंगे महाराष्ट्र के अगले सीएम, देवेंद्र फडणवीस ने किया ऐलानMaharashtra Politics: बीजेपी ने मौका मिलने के बावजूद एकनाथ शिंदे को क्यों बनाया सीएम? फडणवीस को सत्ता से दूर रखने की वजह कहीं ये तो नहीं!Maharashtra: एकनाथ शिंदे होंगे महाराष्ट्र के नए सीएम, आज शाम होगा शपथ ग्रहण समारोहAgnipath Scheme: अग्निपथ स्कीम के खिलाफ प्रस्ताव पारित करने वाला पहला राज्य बना पंजाब, कांग्रेस व अकाली दल ने भी किया समर्थनPresidential Election 2022: लालू प्रसाद यादव भी लड़ेंगे राष्ट्रपति पद के लिए चुनाव! जानिए क्या है पूरा मामलाMumbai News Live Updates: शिंदे सरकार में शामिल होंगे देवेंद्र फडणवीस, जेपी नड्डा ने ट्वीट कर दी जानकारी'इज ऑफ डूइंग बिजनेस' के मामले में 7 राज्यों ने किया बढ़िया प्रदर्शन, जानें किस राज्य ने हासिल किया पहला रैंकMaharashtra Political Crisis: उद्धव के इस्तीफे पर नरोत्तम मिश्रा ने दिया बड़ा बयान, कहा- महाराष्ट्र में हनुमान चालीसा का दिखा प्रभाव
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.