Education: इस कॉलेज में 9 करोड़ की लागत से बनेगा साइंस भवन, मिलेगी यह सुविधा

सबकुछ ठीक ठाक रहा तो जल्द ही निर्माण कार्य शुरु हो जाएगा

By: ashish mishra

Published: 21 Jul 2021, 12:51 PM IST

छिंदवाड़ा. शासकीय स्वशासी पीजी कॉलेज में जल्द ही 8 करोड़ 90 लाख रुपए की लागत से साइंस भवन बनाया जाएगा। इस संबंध में सभी जरूरी कार्यवाही पूरी कर ली गई है। विभाग ने इस कार्य के लिए स्वीकृति भी दे दी है। सबकुछ ठीक ठाक रहा तो जल्द ही निर्माण कार्य शुरु हो जाएगा और एक से दो साल में भवन बनकर तैयार हो जाएगा। साइंस भवन में अत्याधुनिक सुविधाएं मौजूद रहेंगी। जिससे अधिक से अधिक विद्यार्थियों को प्रेक्टिकल करने में आसानी होगी। बताया जाता है कि साइंस भवन में एक साथ सैकड़ों विद्यार्थी प्रेक्टिकल कर सकेंगे। अब तक विद्यार्थी पीजी कॉलेज भवन में सीमित जगह में प्रेक्टिकल करते थे। जिससे उनको काफी परेशानी का भी सामना करना पड़ता था। दरअसल वर्ष 2016 में उच्च शिक्षा विभाग ने रूसा परियोजना के अंतर्गत पीजी कॉलेज का वन टाइम इन्फ्रास्ट्रक्चर एक्सटेंशन का प्रपोजल मांगा गया था। उस समय तत्कालीन प्राचार्य डॉ. यूके जैन ने साइंस भवन के लिए प्रपोजल बनाकर भेजा था। इसके बाद प्रक्रिया शुरु हुई और रूसा ने इस प्रपोजल को स्वीकृत किया। इसके लिए ग्रांट भी मंजूर हो चुकी है। हालांकि उस समय भवन निर्माण की अनुमानित लागत 7 करोड़ 50 लाख रुपए थी, लेकिन अब नई अनुमानित लागत 8 करोड़ 90 लाख रुपए हो गई है। जिसके लिए पीआईयू ने शासन को पत्र लिखा है। उम्मीद है कि जल्द ही इसकी भी स्वीकृति मिल जाएगी।

आउटडोर स्टेडियम के सामने भवन चिन्हित
धर्मटेकड़ी रोड पर आउटडोर स्टेडियम के ठीक सामने साइंस भवन के लिए जमीन चिन्हित की गई है। बता दें कि इस जगह को कुछ समय पहले ही टीवी सेनटोरियम से निकले मलबे से भरा गया था। बताया जाता है कि पहले पांच मंजिला साइंस भवन के लिए प्रपोजल गया था, लेकिन अब उसमें कुछ बदलाव किया गया है।


पुरानी बिल्डिंग हो चुकी है जर्जर
पीजी कॉलेज भवन लगभग 50 वर्ष पुराना है। इसके कई हिस्से जर्जर हो चुके हैं। कॉलेज प्रबंधन हर साल बिल्डिंग में कुछ कार्य कराता रहता है, लेकिन समय के साथ अब बिल्डिंग काफी कमजोर हो चुकी है। ऐसे में भविष्य में बिल्डिंग के गिरने के अंदेशे से भी इंकार नहीं किया जा सकता। बताया जाता है कि पीजी कॉलेज प्रबंधन भविष्य में नई बिल्डिंग निर्माण करेगा। इसके लिए पुरानी बिल्डिंग को गिराया भी जा सकता है। योजना है कि तब तक इसका विकल्प भी तैयार कर लिया जाए। जिससे भविष्य में कक्षाओं के संचालन में परेशानी न हो।


इनका कहना है...
साइंस भवन के लिए प्रपोजल बहुत समय पहले भेजा गया था, जिसकी स्वीकृति मिल चुकी है। रेट रिवाइज हुआ है। जल्द ही यह प्रक्रिया भी पूरी होने की उम्मीद है। साइंस भवन बन जाने से विद्यार्थियों को काफी लाभ होगा।

डॉ. अमिताभ पांडे, प्राचार्य, पीजी कॉलेज

ashish mishra Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned