scriptEducation: The plan to build a research center did not materialise | Education: कॉलेजों को शोध केन्द्र बनाने की योजना अब तक नहीं चढ़ पाई परवान | Patrika News

Education: कॉलेजों को शोध केन्द्र बनाने की योजना अब तक नहीं चढ़ पाई परवान

कॉलेजों ने आवेदन कर दिया।

छिंदवाड़ा

Published: December 29, 2021 12:16:58 pm

छिंदवाड़ा. कॉलेजों को शोध केन्द्र बनाए जाने को लेकर छिंदवाड़ा विश्वविद्यालय द्वारा की गई पहल अब तक परवान नहीं चढ़ पाई है। बड़ी बात यह है कि लगभग एक साल पहले विश्वविद्यालय ने इसके लिए कॉलेजों से आवेदन आमंत्रित किया था। कॉलेजों ने आवेदन कर दिया। इसके बाद विश्वविद्यालय ने राजमाता सिंधिया गल्र्स कॉलेज का निरीक्षण किया और फिर योजना मंद पड़ गई। गौरतलब है कि विश्वविद्यालय से संबद्ध पांच कॉलेजों ने शोध केन्द्र बनाने के लिए छिंदवाड़ा विश्वविद्यालय में निरीक्षण शुल्क जमा किया था। इसके बाद विश्वविद्यालय को कॉलेजों का निरीक्षण करना है। सबकुछ ठीक ठाक रहा और शोध केन्द्र के लिए अप्लाई करने वाले कॉलेज विश्वविद्यालय के मापदंडों पर खरे उतरे तो उन्हें मान्यता मिल जाएगी। इसके बाद विद्यार्थी इन कॉलेजों से विभिन्न विषयों में शोध कर सकेंगे। इस सुविधा के हो जाने से जिले के विद्यार्थियों को पीएचडी के लिए जबलपुर, सागर, भोपाल सहित अन्य बड़े शहरों की दौड़ नहीं लगानी पड़ेगी। इसके अलावा कॉलेजों में शोध केन्द्र बन जाने से जिले के अधिक से अधिक विद्यार्थी शोध कर सकेंगे इससे उनकी क्वालिफिकेशन बढ़ेगी। इसके साथ ही कॉलेजों को कई सेंट्रल गर्वर्नमेंट के रिसर्च इस्टीट्यूट से फंडिंग होगी तो कॉलेज का इंन्फ्राट्रक्चर एवं शोध की सुविधाएं बढ़ेगी। एक दूसरे से मिलकर काम करने की संभावना बढ़ेगी। शोध होंगे तो पेंटेट होंगे और नेशनल रैकिंग सुधरेगी।
College: हाई अलर्ट पर सरकार, फिर भी कॉलेज बेखबर, नहीं कर रहे आदेश का पालन
College: हाई अलर्ट पर सरकार, फिर भी कॉलेज बेखबर, नहीं कर रहे आदेश का पालन
अक्टूबर 2020 में मांगा था आवेदन
छिंदवाड़ा विश्वविद्यालय ने उच्च शिक्षा के क्षेत्र में छिंदवाड़ा सहित सिवनी, बालाघाट, बैतूल में विद्यार्थियों को अधिक से अधिक सुविधा देने के लिए अक्टूबर 2020 में चारों जिलों के संबद्ध कॉलेजों से शोध केन्द्र बनाने हेतु आवेदन आमंत्रित किया था। छिंदवाड़ा जिले से चार एवं सिवनी से एक कॉलेज ने विभिन्न विषयों में शोध केन्द्र के लिए छिंदवाड़ा विश्वविद्यालय में निरीक्षण शुल्क जमा किया।

पीजी कॉलेज में दो विषयों के लिए था शोध केन्द्र
पीजी कॉलेज में भूगोल एवं राजनीति शास्त्र विषय में सागर विश्वविद्यालय से मान्यता प्राप्त शोध केन्द्र स्थापित था। इसके अलावा राजमाता सिंधिया गल्र्स कॉलेज में एक भी विषय का शोध केन्द्र नहीं था। जिले के इन दोनों ही प्रमुख कॉलेज में शोध केन्द्र हो जाने से विद्यार्थियों को काफी लाभ पहुंचेगा।
मापदंडों पर उतरना होगा खरा
छिंदवाड़ा विश्वविद्यालय में शोध केन्द्र के लिए अप्लाई करने वाले कॉलेजों को मान्यता तभी मिलेगी जब वे विश्वविद्यालय के मापदंड पर खरे उतरेंगे। विश्वविद्यालय इन कॉलेजों में लाइब्रेरी, लैब, रिसर्च गाइड, ऑनलाइन रिर्सोसेज सहित अन्य बिन्दुओं को देखेगी। इन सबकी व्यवस्था होने पर ही कॉलेजों को शोध केन्द्र बनाने की विश्वविद्यालय द्वारा अनुमति दी जाएगी।

इन कॉलेजों ने किया अप्लाई
पीजी कॉलेज ने छिंदवाड़ा विश्वविद्यालय को बॉटनी, कमेस्ट्री, फिजिक्स, भूगोल, राजनीतिशास्त्र, अर्थशास्त्र, हिंदी, समाजशास्त्र, अंग्रेजी, इतिहास विषय में शोध केन्द्र बनाने के लिए निरीक्षण शुल्क जमा किया है। इसके अलावा राजमाता सिंधिया गल्र्स कॉलेज ने बॉटनी, जुलॉजी, हिंदी, होम साइंस विषय में, शासकीय परासिया कॉलेज ने इतिहास एवं कमेस्ट्री विषय में, शासकीय बिछुआ कॉलेज ने भूगोल एवं समाजशास्त्र विषय में एवं सिवनी जिले के बरघाट कॉलेज ने लाइब्रेरी साइंस विषय में रिसर्च केन्द्र बनाने के लिए अप्लाई किया है। सभी कॉलेज ने प्रति विषय 15 हजार रुपए भी निरीक्षण शुल्क के रूप में विश्वविद्यालय में जमा कराए हैं।

इनका कहना है...
गाइड बनाने की प्रक्रिया चल रही है। इसके बाद शोध केन्द्र के लिए कॉलेजों का निरीक्षण कर गठन किया जाएगा।
यूएस सालसेकर, कुलसचिव, छिंदवाड़ा विश्वविद्यालय

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Antrix-Devas deal पर बोली निर्मला सीतारमण, यूपीए सरकार की नाक के नीचे हुआ देश की सुरक्षा से खिलवाड़Delhi Riots: दिलबर नेगी हत्याकांड में हाईकोर्ट का बड़ा फैसला, 6 आरोपियों को दी जमानतDelhi: 26 जनवरी पर बड़े आतंकी हमले का खतरा, IB ने जारी किया अलर्टUP Election 2022 : टिकट कटने पर फूट-फूटकर रोये वरिष्ठ नेता ने छोड़ी भाजपा, बोले- सीएम योगी भी जल्द किनारे लगेंगेपंजाबः अवैध खनन मामले में ईडी के ताबड़तोड़ छापे, सीएम चन्नी के भतीजे के ठिकानों पर दबिशफिल्म लुकाछुपी-2 की शूटिंग पर बवाल, परीक्षा स्थल पर लगा दिया सेट, स्टूडेंट्स ने किया हंगामासोशल मीडिया पर छाया कमलनाथ का KGF अवतार, देखें वीडियोIPL 2022 के लिए लखनऊ टीम ने चुने 3 खिलाड़ी, KL Rahul पर हुई पैसों की बरसात
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.