scriptElectricity bill: A fan spoiled the budget | Electricity bill: एक पंखे ने बिगाड़ दिया बजट, सब्सिडी से बाहर हुए हजारों उपभोक्ता | Patrika News

Electricity bill: एक पंखे ने बिगाड़ दिया बजट, सब्सिडी से बाहर हुए हजारों उपभोक्ता

150 यूनिट से अधिक होने लगी बिजली खपत

छिंदवाड़ा

Published: May 16, 2022 10:37:54 am

छिंदवाड़ा। अप्रैल माह तक जिसका बिजली बिल 100 रुपए के अंदर आया, मई माह में वह सीधे 1000 रुपए के पार निकल गया। यह स्थिति शहर के 50 फीसदी उपभोक्ताओं की रही। मई माह में आए बिजली बिल से इनके घर का बजट ही बिगड़ गया। इसमें गर्मी का दोष रहा या भागते हुए मीटर का यह कहना मुश्किल है।
दरअसल माह फरवरी तक कूलर-पंखे चलाने की जरूरत नहीं पड़ी। मार्च में कुछ गर्मी बढ़ी तो पंखे चले और अपे्रल आते-आते कूलर की जरूरत पड़ गई। इससे फरवरी माह की तुलना में माह अप्रैल में बिजली की खपत दोगुनी हो गई। नतीजन हजारों की संख्या में उपभोक्ता सब्सिडी के दायरे से बाहर हो गए।

chhindwara
chhindwara

एक पंखा अधिक चला तो बढ़ गया बिल
उपभोक्ताओं के बिजली बिलों में मई माह में झटके पर झटके लग रहे हैं। मार्च माह में जिस उपभोक्ता के घर में एक पंखा सहित अन्य उपकरण सामान्य रूप से चले तो उसके घर में खपत 100 यूनिट के अंदर ही रही, लेकिन जैसे ही अपै्रल माह में एक अतिरिक्त पंखे का उपयोग किया गया तो खपत 150 यूनिट के पार हो गई। एक उपभोक्ता ने बताया कि दो अपे्रल से 28 अपे्रल तक एक अतिरिक्तपंखे के चलने से मीटर की रफ्तार इतनी तेज हो गई कि उसके घर 147 यूनिट बिजली जल गई। औसत 5 यूनिट से अधिक होने के कारण वह सब्सिडी से भी बाहर हो गया।

बिजली कम्पनी की दो सीमाएं
टैरिफ को लेकर बिजली कम्पनी ने दो सीमाएं तय की है। ऐसे उपभोक्ता जिनके घर औसतन प्रतिदिन पांच यूनिट से कम खपत हुई हो, भले ही वह 150 यूनिट तक पहुंच गए हों उन्हें करीब 400 रुपए तक का बिजली बिल मिला। वहीं 25 दिन में 130 यूनिट की खपत करने वाले उपभोक्ता 5 यूनिट प्रतिदिन के दायरे से बाहर होने कारण 800 रुपए तक के बिजली बिल को झेल रहे हैं। गौरतलब है कि बिजली कम्पनी की ओर से मीटर रीडिंग लेने का अंतराल नियत नहीं है। कभी 25 दिन तो कभी तीस दिन से ज्यादा समय में भी रीडिंग ले ली जाती है।

इनका कहना है
बिजली कम्पनी नियमों के अनुसार ही खपत करने पर बिजली बिल वसूल रही है। गर्मी के कारण अधिक खपत होने पर इंदिरा ज्योति योजना के बाहर होने पर ही बिना सब्सिडी बिल पहुंच रहा है। इसमें किसी के साथ अधिक बिल वसूल नहीं किया जा रहा है।
- खुशियाल शिववंशी, कार्यपालन, अभियंता शहर संभाग

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Maharashtra Politics: एकनाथ शिंदे होंगे महाराष्ट्र के अगले सीएम, देवेंद्र फडणवीस ने किया ऐलानMaharashtra: एकनाथ शिंदे होंगे महाराष्ट्र के नए सीएम, आज शाम होगा शपथ ग्रहण समारोहAgnipath Scheme: अग्निपथ स्कीम के खिलाफ प्रस्ताव पारित करने वाला पहला राज्य बना पंजाब, कांग्रेस व अकाली दल ने भी किया समर्थनPresidential Election 2022: लालू प्रसाद यादव भी लड़ेंगे राष्ट्रपति पद के लिए चुनाव! जानिए क्या है पूरा मामलाMumbai News Live Updates: एकनाथ शिंदे ने कहा- 50 विधायकों का भरोसा कभी टूटने नहीं दूंगाMaharashtra Political Crisis: उद्धव के इस्तीफे पर नरोत्तम मिश्रा ने दिया बड़ा बयान, कहा- महाराष्ट्र में हनुमान चालीसा का दिखा प्रभावप्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने MSME के लिए लांच की नई स्कीम, कहा- 18 हजार छोटे करोबारियों को ट्रांसफर किए 500 करोड़ रुपएDelhi MLA Salary Hike: दिल्ली के 70 विधायकों को जल्द मिलेगी 90 हजार रुपए सैलरी, जानिए अभी कितना और कैसे मिलता है वेतन
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.