exam: न डरें, न नर्वस होकर दें परीक्षा...मिलेगी सफलता, जानें विशेषज्ञ राय

- राष्ट्रपति पुरस्कार से सम्मानित शिक्षा विद विनोद तिवारी ने किया मार्गदर्शन

 

By: Dinesh Sahu

Published: 07 Mar 2020, 06:31 PM IST

Chhindwara, Chhindwara, Madhya Pradesh, India

छिंदवाड़ा/ बोर्ड परीक्षा में सफलता को लेकर विद्यार्थियों में कई तरह के सवाल जन्म लेते है, जिससे अक्सर वे जो करना चाहते है वो नहीं कर पाते है। ऐसे में विद्यार्थियों को उचित मार्गदर्शन की आवश्यकता होती है। पत्रिका के स्वर्णिम भारत अभियान के तहत राष्ट्रपति पुरस्कार से सम्मानित शिक्षा विद विनोद तिवारी से चर्चा की गई, जिसमें उन्होंने वार्षिक परीक्षा के साथ-साथ प्रतियोगी परीक्षाओं में सफलता के कई टिप्स दिए है। शिक्षक तिवारी ने बताया कि बोर्ड परीक्षा को लेकर पहले तो भयमुक्त वातावरण निर्मित होना चाहिए तथा मन में डर या नर्वस जैसी स्थिति निर्मित नहीं करनी चाहिए, चूंकि कोई भी एग्जाम अंतिम नहीं होता है। इस भावना से लगातार प्रयास करते रहना चाहिए।

एग्जाम के दौरान नहीं लें तनाव -

प्रतिवर्ष फरवरी-मार्च के आसपास बोर्ड एग्जाम होते है, यह सभी जानते है। ऐसे में विद्यार्थियों को पहले से ही तैयारी करनी चाहिए तथा प्रक्रिया को नियमित रखना चाहिए। माह दिसम्बर तक सभी विषयों के सिलेबस तैयार हो चुके है तो रिवीजन का पर्याप्त समय मिलता है, जिसका काफी फायदा मिलता है। वहीं परीक्षा के दौरान किसी भी तरह का तनाव मन में नहीं रखना चाहिए।

टाइम टेबल के आधार पर करें तैयारी -

हर स्टूडेंट की लाइफ में टाइम टेबल के साथ पढ़ाई बहुत महत्व रखता है। इससे खास और निश्चित प्रश्नों की तैयारी की जा सकती है तथा परीक्षा के दिनों में अतिरिक्त समय नहीं देना पड़ता है। इसलिए टाइम टेबल के आधार पर कम समय में भी तैयारी की जा सकती है। वहीं तैयारी पूरी हो चुकी है तो रिवीजन पर फोकस किया जा सकता है तथा अच्छी तरह याद रखने के लिए प्रश्नों को लिख-लिख कर अभ्यास करना चाहिए।

पुराने प्रश्न-पत्र भी होते है मददगार -

पिछले वर्षों के प्रश्न-पत्र को खंगाला जा सकता है, जिससे कई तरह की मदद मिलती है तथा परीक्षा का आधार भी स्पष्ट हो जाता है। इसके अलावा आपके द्वारा तैयार किए गए नोट्स पर भी एक बार नजर डालना चाहिए। इससे कई प्रश्न याद रहते है।

सेहत का रखें ख्याल -

परीक्षा के सबसे सेहत पर अधिक ध्यान देने की आवश्यकता होती है, जिसमें उचित खानपान के साथ-साथ पर्याप्त नींद भी लेना आवश्यक हैं। बीमार होने से परीक्षा पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है। साथ ही परीक्षा में जरूर सफलता मिलेगी, जिसके लिए स्वयं को मोर्टिवेट भी करना चाहिए। किसी प्रकार की समस्या आने पर अपने शिक्षक या वरिष्ठ विद्यार्थी से मार्गदर्शन ले सकते है।

Show More
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned