Example Of Humanity: बरसते पानी में तड़प रही थी वृद्धा, राहगीर बस देखते रह गए, एक फरिश्ते ने बढ़ाया हाथ

दो दिन से बीमार महिला को पहनाए नए कपड़े और ऑटो से इलाज के लिए लाए अस्पताल

By: prabha shankar

Published: 05 Sep 2019, 08:00 AM IST

छिंदवाड़ा/ हर मिनट स्मार्ट फोन पर निगाहें और चलती अंगुलियों के दौर में कोई सामने बीमार भी पड़ा हो तो सहायता के लिए हाथ शायद ही उठेंगे। जिला अस्पताल के सामने एक बीमार बेसहारा वृद्धा चार दिनों से पानी में तड़प रही थी। हालात ये थे, सडक़ से सैकड़ों लोग गुजर रहे थे लेकिन किसी ने भी उसकी तरफ नजर नहीं फेरी। उसकी स्थिति लगातार बिगड़ती जा रही थी। उसकी फटेहाल अवस्था पर आखिरकार बुधवार सुबह नगर निगम के वार्ड दरोगा हेमंत गोदरे सामने आए। स्थानीय लोगों की मदद से उसे नए वस्त्र पहनाए और ऑटो में बैठाकर जिला अस्पताल में भर्ती कराया।
मानवता की यह मिसाल इस शहर में मुश्किल से देखने को मिलती है। यह बुजुर्ग ठीक से अपना नाम भी नहीं बता पाती है। वह चार दिन से जिला अस्पताल के गेट नम्बर 4 के सामने निर्मला देवी आश्रम के समीप खुले आसमान के नीचे कैसे आई? इस सवाल का भी उसके पास जवाब नहीं है। इस दौरान लगातार बारिश भी हुई। वह भीगते हुए बीमार अवस्था में पड़ी रही। सडक़ से हजारों राहगीर गुजरते रहे। कोई भी उसकी मदद के लिए सामने नहीं आया। वार्ड दरोगा के साथ सर्पमित्र हेमंत को युवा राहुल राहंगडाले ने इसकी जानकारी दी। जिस पर मौके पर पहुंचे गोदरे ने स्थानीय लोगों की मदद से महिला को नए वस्त्र धारण कराए और आस पास के लोगों के सहयोग से ऑटो से इलाज के लिए महिला को जिला अस्पताल के अंदर लाकर भर्ती कराया। गोदरे ने बताया कि महिला के पूर्ण रूप से स्वस्थ होने पर वृद्धाश्रम में पहुंचाया जाएगा।

prabha shankar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned