अजब-गजब या बुरी किस्मत: 25 छात्राएं एक ही विषय में तीसरी बार हुईं फेल

अजब-गजब या बुरी किस्मत:  25 छात्राएं एक ही विषय में तीसरी बार हुईं फेल
Chhindwara

Prabha Shankar Giri | Publish: Aug, 15 2019 10:04:32 AM (IST) Chhindwara, Chhindwara, Madhya Pradesh, India

राजमाता सिंधिया गल्र्स कॉलेज का मामला

छिंदवाड़ा. राजमाता सिंधिया गल्र्स कॉलेज में बीकॉम की 25 छात्राएं बुधवार को रानी दुर्गावती विश्वविद्यालय की मनमानी के खिलाफ छात्रासंघ अध्यक्ष रेशमा खान के नेतृत्व में सडक़ पर उतर आई। छात्राओं ने समस्या सुलझाने के लिए कांग्रेस जिला अध्यक्ष गंगा प्रसाद तिवारी को मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपा।
रेशमा खान ने बताया कि एक दिन पहले ही बीकॉम द्वितीय सेमेस्टर एटीकेटी परीक्षा के परिणाम आए हैं। जिसमें 25 छात्राओं को अकाउंट विषय में फेल कर दिया गया है। यह पहला मौका नहीं है जब एक साथ इतनी अधिक छात्राओं को फेल किया गया। इससे पहले भी इन्हीं छात्राओं को अकाउंट विषय में दो बार एटीकेटी आ चुकी है। तीन बार एक विषय में उन्ही छात्राओं को फेल करना समझ से परे है। छात्राओं का कहना है कि अकाउंट विषय का पेपर भी उनका अच्छा गया था। इसके बावजूद विश्वविद्यालय ने कम अंक प्रदान किए।

छात्राएं छठवां सेमेस्टर कर चुकी हैं पास
नियम के अनुसार विद्यार्थियों को तीन बार एटीकेटी परीक्षा देने की छूट होती है। जिन 25 छात्राओं को फेल किया गया है वे सभी बीकॉम छठवें सेमेस्टर को पास कर चुकी हैं। अब अगर उन्होंने द्वितीय सेमेस्टर पास नहीं किया तो उन्हें स्नातक की डिग्री नहीं मिल पाएगी। छात्राओं ने मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपकर एक और मौका प्रदान करने की गुहार लगाई है।

एमएससी के छात्राओं के भी नहीं जोड़े अंक... छात्रासंघ अध्यक्ष ने विश्वविद्यालय से जुड़ी एक और समस्या के समाधान की मांग की। विश्वविद्यालय ने गल्र्स कॉलेज की एमएससी तृतीय सेमेस्टर की लगभग नौ छात्राओं के स्पेशल फंक्शन विषय में अंक प्रदान नहीं किए हैं। ऐसे में छात्राओं को परेशानी हो रही है।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned