इस बार नहीं होगी खाद की किल्लत, डिमांड से ज्यादा है आपूर्ति

इस बार नहीं होगी खाद की किल्लत, डिमांड से ज्यादा है आपूर्ति
Fertilizer supply over demand

Prabha Shankar Giri | Publish: Aug, 14 2019 11:20:23 AM (IST) Chhindwara, Chhindwara, Madhya Pradesh, India

जिले में 75 हजार मीट्रिक टन से ज्यादा आई खाद

छिंदवाड़ा. खरीफ की इस बार की बोनी में खाद की किल्लत जिले में देखने को नहीं मिली। दरअसल, जिले में खाद का जितना लक्ष्य मिला था उससे ज्यादा खाद बुलाई गई। कृषि विभाग ने जितनी डिमांड भेजी थी, खाद का वितरण उसके आसपास हो गया है। विपणन संघ के पास अभी पांच हजार मीट्रिक टन खाद गोदाम में रखी है और लगभग इतनी ही खाद का ऑर्डर और दिया जा चुका है।
गौरतलब है सबसे ज्यादा डिमांड यूरिया और डीएपी की रहती है। इन दोनों खाद की डिमांड ही जिले में 60 हजार मीट्रिक टन से ज्यादा है। खरीफ का यह सीजन सबसे महत्वूपर्ण रहता है। फसलों का रकबा बढ़ जाता है तो फसलों में डालने के लिए खाद की मांग भी बढ़ जाती है। इस बार खरीफ के मौसम में पांच लाख हैक्टेयर के आसपास बोनी पहुंच गई है। इसमें मक्का, सोयाबीन, कपास, सहित अन्य दलहन फसलें हैं।
खरीफ सीजन की फसलों में खाद भी ज्यादा लगती है। इस बार मई-जून में ही खाद का स्टॉक कर लिया गया था। पिछले दो सालों से जिले में खाद को लेकर किल्लत देखने को नहीं मिली है। उपसंचालक कृषि जेआर हेडाऊ का कहना है कि इस बार सभी विकासखंडों से फसलवार डिमांड समय से पहले ही ले ली गई थी यही कारण है खाद समय पर आ गई और इससे किसानों को दिक्कत नहीं हुई।

खाद लक्ष्य भंडारण वितरण
यूरिया 48000 52522 47545
डीएपी 14000 15229 12993
एनपीके 5080 12080 682
पोटाश 6600 5533 4647

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned