Festival: नवंबर माह में कई शुभ योग, पति के लंबी उम्र की होगी कामना, मनेगा दीपोत्सव, शादियों का सीजन भी

मार्च माह से बाजार में पसरा सन्नाटा नवरात्र में दूर हो गया।

By: ashish mishra

Published: 29 Oct 2020, 11:03 AM IST

छिंदवाड़ा. मार्च माह से बाजार में पसरा सन्नाटा नवरात्र में दूर हो गया। जिससे व्यापारियों के चेहरे खुशी से खिल गए हैं। नवरात्र में इस बार खरीदी के कई शुभ योग होने से हर क्षेत्र में लोगों ने जमकर खरीदारी की। अनुमान के मुताबिक रियल एस्टेट, इलेक्ट्रॉनिक, ज्वेलरी, ऑटोमोबाइल, होम एप्लाइंसेज, कपड़ा मार्केट, फर्नीचर, लाइटिंग-पेंट सहित अन्य सभी क्षेत्रों में करोड़ों का कारोबार हुआ है। नवरात्र के बाद व्यापारियों ने अब दीवाली की भी तैयारी शुरु कर दी है। लोगों को भी दिवाली का ब्रेसब्री से इंतजार है। इसके अलावा 25 नवंबर देवउठनी एकादशी के बाद से शादियों का सीजन भी शुरु हो जाएगा। इसे लेकर भी बाजार तैयार है। त्योतिषों के अनुसार नवरात्र से ही शुभ योग शुरु हो गए हैं जो दीवाली के बाद भी जारी रहेंगे। ऐसे में बाजारों में रौनक बरकरार रहेगी। शरद पूर्णिमा से दीपावली तक खरीदी के कई शुभ योग बन रहे हैं। 30 अक्टूबर को शरद पूर्णिमा पर सर्वार्थ सिद्धि, अमृत सिद्धि योग व रवि योग का संयोग रहेगा। 1 नवंबर को त्रिपुष्कर योग, 2 नवंबर को सर्वार्थ सिद्ध योग, 4 नवंबर को करवा चौथ पर सर्वार्थ सिद्धि योग, 6 नवंबर को रवि, सर्वार्थ सिद्धि व कुमार योग, खरीदी का महामुहूर्त पुष्य नक्षत्र का संयोग इस बार दो दिन रहेगा। 7 नवंबर को सुबह 8 बजे से पुष्य नक्षत्र शुरु होगा जो रविवार सुबह 9 बजे तक रहेगा। इस दिन त्रिपुष्कर व रवि योग बन रहा है। 9 एवं 10 नवंबर को कुमार योग, 11 को सर्वार्थ सिद्धि योग, 13 नवंबर धनतेरस का अबूझ मूहूर्त और 14 नवंबर को दीपावली का योग रहेगा। हिंदू कैलेंडर के अनुसार 1 नवंबर 2020 से कार्तिक माह भी आरंभ हो रहा है। हिंदू धर्म में कार्तिक माह का विशेष महत्व होता है। कार्तिक का महीना दान, स्नान, दीपदान और त्योहार का महीना है। कार्तिक का महीना धार्मिक अनुष्ठान, व्रत और तप के लिए विशेष लाभकारी माना गया है। कार्तिक का महीना शरद पूर्णिमा से आरंभ होकर कार्तिक पूर्णिमा तक चलता है। मान्यताओं के अनुसार कार्तिक महीना भगवान शिव के पुत्र कार्तिकेय के नाम पर रखा गया है। इसी महीने में भगवान कार्तिकेय ने तारकासुर राक्षस का वध किया था। इसके अलावा कार्तिक महीना भगवान विष्णु का भी मास होता है। इस महीने में दीपदान और तुलसी पूजा का विशेष महत्व होता है।

चार दिनों का दीपोत्सव
पांच दिनों तक चलने वाला दीपोत्सव इस बार चार दिनों का ही होगा। 13 नवंबर को धनतेरस, 14 नवंबर को छोटी और बड़ी दिवाली, 15 को अन्नकूट महोत्सव व गोवर्धन पूजा एवं 16 नवंबर को भाई दूज मनाई जाएगी।

Show More
ashish mishra Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned