‘महुआ’ के नीचे आग, जंगलों में उठ रहा धुआं

‘महुआ’ के नीचे आग, जंगलों में उठ रहा धुआं
Mahua in the jungle

Prabha Shankar Giri | Publish: Mar, 28 2019 11:04:06 AM (IST) Chhindwara, Chhindwara, Madhya Pradesh, India

सीजन की शुरुआत में 25 से अधिक अग्नि हादसे हर दिन सेटेलाइट से आ रहा अलर्ट मैसेज

छिंदवाड़ा. महुआ के नीचे आग से जंगलों में धुआं लगातार उठ रहा है। अग्नि हादसों ने वन विभाग के अधिकारी-कर्मचारियों की धडकऩें बढ़ा दी है। हर दिन भोपाल से सेटेलाइट की मदद से आग लगने की सूचनाएं आ रहीं हंै। ऐसे में हर वनमण्डल में अफरातफरी का माहौल बना हुआ है।
बीती 15 मार्च से शुरू इस सीजन में वनवासी अलसुबह चार से छह बजे के बीच पेड़ के नीचे महुआ फूल एकत्र करते हैं। इस दौरान पेड़ के नीचे अंगार जलाने या फिर बीड़ी जलाकर फेंकने से जंगलों में आग लग जाती है। शुरुआत में ही वन विभाग के अधिकारियों ने कर्मचारियों को सतर्क किया था। बावजूद इसके लापरवाही दिखाई दे रही है। वनवासी अंगार खुली छोडकऱ चल देते हैं। पतझड़ का मौसम होने से तुरंत आग आसपास के पेड़ों को जला देती है। इसकी सूचना मिलने पर वन कर्मचारियों को आग बुझाने जाना पड़ता है। इसके साथ ही वन विभाग की सेटेलाइट आधारित सेवा तुरंत ही वन अधिकारी-कर्मचारियों को अलर्ट मैसेज भेज देती है। इसमें कम्पार्टमेंट नम्बर और जीपीएस से इलाके का जिक्र होता है। अभी तक पूरे वन वृत्त में 25 से अधिक आग की घटनाएं हो चुकी हैं।
दक्षिण वनमण्डल के डीएफओ आलोक पाठक स्वीकार करते हैं कि महुआ सीजन में लापरवाही वश ज्यादा आग लगने की सूचनाएं मिल रहीं हैं। इसके अलर्ट मैसेज भोपाल से भी आ रहे हैं। दक्षिण वनमण्डल में अभी तक 15 घटनाएं हो चुकी हैं। इनमें आग को बुझाया जा चुका है। विभागीय अधिकारी-कर्मचारियों को पूरे समय जंगल में आग के प्रति अलर्ट किया गया है।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned