250 बिस्तरों का पहला कोविड हॉस्पिटल हुआ शुरू, जानें क्या है सुविधाएं

एक माह में तैयार हो गया हॉस्पिटल, पांढुर्ना समेत 125 गांव के मरीजों को मिलेगा लाभ

By: Dinesh Sahu

Published: 20 Jul 2020, 11:33 AM IST

छिंदवाड़ा/ कोरोना संक्रमित मरीजों के उपचार के लिए जिला अस्पताल के साथ-साथ सिविल हॉस्टिल पांढुर्ना में भी सुविधाएं उपलब्ध हो गई है। कलेक्टर सौरभ कुमार सुमन के मार्गदर्शन में कोविड हॉस्पिटल मात्र एक माह तैयार हो गया। स्थानीय प्रशासन और चिकित्सा अधिकारियों के प्रयास से सिविल हॉस्टिल पांढुर्ना में 250 पलंग उपलब्ध हुए है। इतना ही नहीं मरीजों को उचित उपचार मिल सके, जिसके लिए 100 पलंगों पर ऑक्सीजन पाइंट भी लगाए गए है। इसके अलावा 20 एयरकंडीशनर ओपीडी कक्ष तथा आइसोलेशन कक्ष भी एनएचएम इंजीनियर द्वारा तैयार किया गया है।

- आइसोलेशन के साथ-साथ ऑक्सीजन की भी है सुविधाएं

विकासखंड चिकित्सा अधिकारी डॉ. अशोक भगत ने बताया कि कोरोना मरीजों की देखभाल एवं उपचार के लिए मेडिकल ऑफिसरों के साथ-साथ आयुर्वेद, होम्योपैथिक के डॉक्टरों की भी ड्यूटी लगाई गई है। इस हॉस्पिटल से 125 गांव की करीब 2 लाख की आबादी को लाभ मिल सकेगा। बीएमओ डॉ. भगत ने बताया कि जिला अस्पताल में भर्ती कोविड-19 पॉजिटिव मरीज के दस दिवस पूर्ण करने वाले ऐसे मरीजों के पांढुर्ना शिफ्ट किया जाएगा तथा प्रोटोकॉल के तहत कुछ दिन आब्जर्वेशन में रहने तथा नेगेटिव रिपोर्ट आने पर छुट्टी दे दी जाएगी।

कलेक्टर ने दिखाई रुचि -


शासन द्वारा 100 बिस्तर का सिविल हॉस्पिटल तैयार किया जा रहा था, पर लॉकडाउन की वजह से निर्माण कार्य बंद था। कलेक्टर सुमन ने इसमें रुचि दिखाते हुए विशेष आदेश के तहत अधूरे कार्य को पूरा कराया और आवश्यक संसाधनों के साथ हॉस्पिटल शुरू कराया गया है। बता दें कि सामान्य मरीजों के लिए वर्तमान में पुरानी भवन में हॉस्पिटल संचालित है।


ट्रू-नॉट से भी हो सकती है जांच -


कोविड हॉस्पिटल पांढुर्ना में इमरजेंसी की स्थिति में मरीज का स्वाव सेम्पल एकत्रित कर ट्रू-नॉट से जांच कराया जा सकता है। इसके लिए विभाग के पास ट्रू-नॉट किट भी उपलब्ध है, जिसमें सेम्पल लेकर तत्काल जिला अस्पताल में लगी मशीन से जांच कराई जा सकती है। वहीं फीवर क्लीनिक या अन्य क्षेत्र से सर्दी-खांसी, बुखार वाले संदिग्ध मरीजों को यहां रखा जा सकता है तथा मरीजों के भोजन की व्यवस्था भी बनाई गई है।


जिला अस्पताल की ऐसी है व्यवस्थाएं -


1. मेल मेडिकल वार्ड में पलंग क्षमता - 35
2. फीमेल मेडिकल वार्ड में पलंग क्षमता - 35
3. मेल सर्जिकल वार्ड में पलंग क्षमता - 35
4. इएनटी एंड चेस्ट-टीबी वार्ड में पलंग क्षमता - 60
5. आइसोलेशन तथा आइसीसीयू विभाग में पलंग क्षमता - 35
6. बिना लक्षण वाले मरीजों के लिए एसआर-जेआर निवास तथा नर्सिंग होस्टल के करीब 200 पलंग आरक्षित किए गए है।

शीघ्र शुरू होगा ऑक्सीजन प्लांट -


कोरोना मरीजों की सुविधा के लिए आवश्यक व्यवस्थाएं बनाई गई है। हॉस्पिटल में ऑक्सीजन की सेंट्रल लाइन बिछा दी गई है, अब शीघ्र ही प्लांट भी स्थापित हो जाएगा। इससे बार-बार सिलेंडर बदलने की जरूरत नहीं होगी।


- सौरभ कुमार सुमन, कलेक्टर छिंदवाड़ा।

COVID-19
Dinesh Sahu
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned