मेट्रो सिटी की तर्ज पर अब इस शहर में भी बनेगा फ्लाईओवर

मेट्रो सिटी की तर्ज पर अब इस शहर में भी बनेगा फ्लाईओवर
Five km long flyover

Prabha Shankar Giri | Updated: 10 Mar 2019, 11:10:10 AM (IST) Chhindwara, Chhindwara, Madhya Pradesh, India

सिवनी रोड आरओबी से लेकर इएलसी तक की 650 करोड़ की कार्ययोजना को सैद्धांतिक मंजूरी

छिंदवाड़ा. लोकसभा चुनाव 2019 की आचार संहिता के पहले प्रदेश की कमलनाथ सरकार ने छिंदवाड़ा शहर समेत ग्रामीण अंचल के विकास के लिए खजाना खोल दिया है। इसी क्रम में शनिवार को पीडब्ल्यूडी मंत्री ने भोपाल में सिवनी रोड आरओबी से लेकर इएलसी चौक के बीच पांच किमी लम्बे फ्लायओवर को सैद्धांतिक मंजूरी दी। इस परियोजना में 650 करोड़ रुपए की लागत आएगी। इसके साथ ही छिंदवाड़ा-तामिया रोड पर 800 मीटर लम्बा आरओबी बनाया जाएगा। इसके निर्माण पर 64 करोड़ रुपए खर्च होंगे।
इधर.. हवाई पट्टी का विस्तार छह सौ मीटर
इधर, इमलीखेड़ा हवाई पट्टी का बैतूल रोड तक 600 मीटर तक विस्तार होगा। राजस्व विभाग ने जमीन को चिह्नित करने के साथ ही पीडब्ल्यूडी को दे दी है। इसके बाद यह विभाग इसकी कार्ययोजना तैयार करने में लगा हुआ है।
बताया जाता है कि हवाईपट्टी विस्तार में बैतूल बायपास रोड की जमीन भी आएगी। अभी हवाई पट्टी विमानों की सम्भावित आवाजाही तथा आसपास कॉलोनी के विकास से छोटी पडऩे लगी है। इसे देखते हुए पीडब्ल्यूडी ने हवाई पट्टी के विस्तार की योजना तैयार की है। इसमें कुछ जमीन भी अधिग्रहित करने की बात भी कही जा रही है। पीडब्ल्यूडी के कार्यपालन यंत्री हिरदेश आर्य का कहना है कि हवाईपट्टी के विस्तार की कार्ययोजना बन रही है। जल्द ही इसका खुलासा किया जाएगा।

परासिया और जुन्नारदेव के तीन जलाशय मंजूर
मुख्यमंत्री कमलनाथ ने अपने गृह जिले छिंदवाड़ा के दो विकासखंडों में तीन जलाशयों के निर्माण की स्वीकृति दी है। इन लघु सिंचाई परियोजनाओं के निर्माण के लिए प्रमुख अभियंता जलसंसाधन विभाग ने प्रशासकीय स्वीकृति प्रदान कर दी। साथ ही साथ गत दिवस टेंडर प्रक्रिया पूर्ण हो चुकी है। इससे रबी फसल की सिंचाई का रकबा बढेग़ा। जुन्नारदेव विकासखंड के अंतर्गत खैरमंडल बैराज लघु सिंचाई परियोजना 377.09 लाख, जूनापानी बैराज लघु सिंचाई परियोजना 269.74 लाख तथा परासिया विकासखंड के अंतर्गत बिजौरी बैराज लघु सिंचाई परियोजना का निर्माण 271.48 लाख रुपए की लागत से पूर्ण होगा। माना जा रहा है कि सिंचाई का रकबा बढऩे के साथ ही रबी की मुख्य फसल गेहूं, चना, मक्का व आंशिक तौर पर धान, कोदो व कुटकी की फसलों की पैदावार में बढ़ोत्तरी होगी।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned