किसी के दांत पीले तो कोई पेट दर्द से पीडि़त

किसी के दांत पीले तो कोई पेट दर्द से पीडि़त

Prabha Shankar Giri | Publish: Oct, 14 2018 11:46:25 AM (IST) Chhindwara, Madhya Pradesh, India

अमरवाड़ा विधानसभा के अंतिम छोर के गांव खकरा चौरई में नहीं निकल सका समस्या का हल

मनोहर सोनी
छिंदवाड़ा. जिला मुख्यालय से 22 किमी दूर सिंगोड़ी के नजदीकी गांव खकरा चौरई के हर परिवार में कोई न कोई फ्लोरोसिस बीमारी से पीडि़त मिल जाएगा। किसी के दांत पीले तो कोई कमजोर हड्डियों वाला या किसी के पेट-घुटने में दर्द मिल जाएगा। यहां पानी में पाए जाने वाले फ्लोराइड का अब तक हल नहीं ढूंढा जा सका है। विधानसभा चुनाव की सरगर्मी के बारे में पूछो तो लोग पहले इस जन्मजात समस्या को गिनाने में लग जाते हैं, जिसका निराकरण क्षेत्रीय नेता अब तक नहीं कर पाए।
छिंदवाड़ा-नरसिंहपुर नेशनल हाइवे के सिंगोड़ी बायपास से लगा पांच सौ की आबादी वाला यह गांव अमरवाड़ा विधानसभा का अंतिम छोर है। यहीं से चौरई विधानसभा की शुरुआत हो जाती है। इस गांव में मौजूद चुनावी मुद्दों की पड़ताल करने पर लोगों ने अपना दुख दर्द बयां कर दिया। बातचीत में सबसे बड़ा मुद्दा फ्लोराइडयुक्त पानी का मिला। ग्राम के मनोज साहू बताते हैं कि पीएचई विभाग द्वारा स्थानीय कुआं पर फ्लोराइड रिमूवल प्लांट भी लगाया गया। कुछ दिन चलने के बाद प्लांट बंद हो जाने से ग्रामीण फ्लोराइड-युक्त पानी पीने को मजबूर हैं।

दूषित पानी से हो रही बीमारी
इस गांव में फ्लोराइडयुक्त पानी पीने से हड्डियों से जुड़ी फ्लोरोसिस बीमारी हो रही है। ग्रामीणों के दांतों में अत्यधिक पीलापन, हाथ और पैर का आगे या पीछे की ओर मुड़ जाने के लक्षण हैं तो वहीं पांव का बाहर या अंदर की ओर धनुषाकार हो जाना, घुटनों के आसपास सूजन, झुकने या बैठने में परेशानी, कंधे, हाथ और पैर के जोड़ों में दर्द और पेट भारी रहने की शिकायत आम हो गई है। इसका निराकरण नहीं हो पाया है।

समस्या हल करने वाले को देंगे वोट
गांव के कैलाश चंद्रवंशी और सतीश साहू ने बताया कि गांव में पांच दिन में एक बार इस फ्लोराइडयुक्त पेयजल की आपूर्ति होती है। शेष दिन में ग्रामीण खेतों के कुओं से पानी लाकर गुजारा करते हैं। विधानसभा चुनाव के मुद्दे के बारे में पूछने पर ग्रामीणों का कहना है कि जिस भी पार्टी का उम्मीदवार उनके गांव की पानी की समस्या दूर करेगा, वे उसे ही चुनेंगे।

पाइपलाइन फूटी, नालियों में पानी
मेंहदीवाड़ा निवासी अनिल चंद्रवंशी बताते हैं कि उनके गांव में पाइपलाइन जगह-जगह फूटी है और नालियों में पानी बह रहा है। गांव में पेयजल समस्या गंभीर है। लोग विधानसभा चुनाव तो कम, इन समस्याओं की ज्यादा चर्चा करते हैं। अंदरुनी गांवों में काम नहीं हो पाया है। सडक़ इतनी खराब है कि जरा सी बारिश में कीचड़ हो जाता है। स्थानीय जनप्रतिनिधि इन समस्याओं को पूछने तक गांव में नहीं आते हैं।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned