44 वर्ष बाद स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों के त्रुटिपूर्ण नाम सुधारे

पांढुर्ना का मामला

By: mantosh singh

Published: 26 Jan 2018, 05:10 PM IST

पांढुर्ना. देश की स्वतंत्रता को 25 साल पूरे होने पर नगर के नगर पालिका हाईस्कूल परिसर में स्थापित किए गए शहीद स्मारक में स्थापना के 44 वर्ष बाद दर्ज शहीदों के त्रुटिपूर्ण नामों को सुधारा जा सका है। इस काम का श्रेय नपाध्यक्ष प्रवीण पालीवाल को जाता है, जिनका ध्यान इस ओर गया और उन्होंने शहीदों की याद में बनाए गए इस स्तंभ पर दर्ज नामों को सहीं अर्थ में लाकर पुन: सम्मान दिया। साथ ही इस स्थान का जीर्णोद्धार भी किया गया।

नगर पालिका हाईस्कूल के परिसर में वर्ष 1973 में स्थापित किए गए इस शहीद स्मारक में विकासखंड के नौ शहीदों के नाम दर्ज हैं। नपाध्यक्ष प्रवीण पालीवाल ने बताया कुछ नामों की स्पेलिंग में आंशिक त्रुटियां थी, जिन्हें सुधारा जाना चाहिए था, परंतु सुधारा नहीं जा सका था। इस ओर ध्यान देकर इस स्तम्भ का जीर्णोद्वार कर नामों की त्रुटियों को सुधारकर फिर एक बार हमारे स्वतंत्रता सेनानियों को सम्मान दिया गया है।

राष्ट्रीयता प्रतीक के साथ संविधान की प्रस्तावना
वर्ष 1973 में लगाए गए इस शहीद स्तम्भ में राष्ट्रीय प्रतीक के साथ ही राष्ट्रीय पशु, राष्ट्रीय पक्षी, राष्ट्रीय फूल को प्रदर्शित किया गया है। राष्ट्रीय संविधान की प्रस्तावना का भी स्तंभ में महत्वपूर्ण ढंग से उल्लेख किया गया है। जिसमें लोकतंत्रात्मक गणराज्य बनाने के लिए समस्त नागरिकों को सामाजिक, आर्थिक और राजनीतिक न्याय, विचार अभिव्यक्ति, विश्वास, धर्म और उपासना की स्वतंत्रता, प्रतिष्ठा और अवसर की समता प्राप्त करने के लिए तथा उन सब में व्यक्ति की गरिमा और राष्ट्र की एकता सुनिश्चित करने वाली बंधुता बढ़ाने का दृढ़ संकल्प दर्शाया गया है।

इन नामों में हुआ सुधार
पहले
1. रायचंदभाई नरसिंहभाई शाह
2. लक्ष्मणबापूराव अप्पा
3. दुलीचंद खेमचंद
4. नारायण विश्वनाथ
5. गुलाबराव पांडुरंग कुन्बी
६. नीलकंठ बाजीराव झलके
7. रामजी पराडक़र
8. अन्नाराव वेंकटराव खन्ना
9. विश्वनाथ बापूराव गाढ़वे


अब
१. रायचंदभाई शाह
२. लक्ष्मणआप्पा जनूनकर
३. दुलीचंदभाई मेहता
4. नारायण विश्वनाथजी
5. गुलाबरावजी पाटिल
६. नीलकंठराव पाटिल झलके
7. रामजीभाउ पराडक़र
8. अन्नारावजी खन्ना
9. विश्वनाथ आप्पाजी गाढ़वे

mantosh singh Editorial Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned