scriptGrain Market: By bypassing the rules during the day | Grain Market: दिन में नियम दरकिनार तो रात में हो रही बेजा वूसली | Patrika News

Grain Market: दिन में नियम दरकिनार तो रात में हो रही बेजा वूसली

प्रवेश पर्ची में जानकारी भरने में की जा रही लापरवाही, किसानों ने लगाए आरोप

छिंदवाड़ा

Published: April 29, 2022 11:15:02 am

छिंदवाड़ा। कृषि उपज मंडी में सीजन शुरू होते ही किसानों की प्रवेश पर्ची बनाने में लापरवाही शुरू कर दी जाती है। गेट पर तैनात कर्मचारी को प्रवेश पर्ची बनाने की इतनी जल्दी होती है कि पर्ची में पूरी जानकारी तक नहीं लिखी जाती, जबकि पर्ची में विक्रेता कृषक का पूरा नाम, पता, ग्राम, तहसील एवं जिले तक का विकल्प दिया होता है। कृषि उपज का नाम सहित, वाहन का प्रकार तक लिखा जाता है, लेकिन लापरवाही के चलते कृषक का नाम, उपज एवं उपज की अनुमानित मात्रा के अलावा हस्ताक्षर के स्थान पर मोबाइल नम्बर लिख दिया जाता है। उपज लाने वाला कृषक किस गांव, तहसील का है, किस वाहन से उपज लाया है इसका उल्लेख नहीं किया जाता है। इसके अलावा पर्ची में ली जाने वाली राशि का कहीं भी उल्लेख नहीं होता जबकि ली जाने वाली राशि एवं वाहन के नम्बर का होना अत्यंत आवश्यक होता है।
किसानों ने आरोप लगाया है कि उनसे पर्ची का 20 रुपए दिन में लिया जाता है लेकिन कभी कभी जब वे रात में आते हैं तो प्रवेश के लिए कुछ अधिक राशि भी देनी पड़ जाती है, यह 40-50 रुपए भी हो सकती है। लेकिन पर्ची वहीं दी जाती है जिसमें कोई डिटेल नहीं लिखी होती है।
दरअसल मंडी में रात के समय ट्रकों के प्रवेश का समय होता है। इस समय किसानों को प्रवेश नहीं दिया जाना चाहिए, लेकिन प्रवेश करने के लिए इस तरह अतिरिक्त भुगतान कर किसानों को प्रवेश दे दिया जाता है। जिससे मंडी की व्यवस्था भी प्रभावित होती है।

chhindwara
chhindwara

पर्ची से आवक का रहता है प्रमाण
मंडी में प्रवेश करने के पूर्व किसान को दी जाने वाली पर्ची की उपयोगिता नीलामी के दौरान तो रहती ही है, साथ ही उपज की तौल के बाद भुगतान के लिए भी पूरी भूमिका उसी पर्ची की होती है। पर्ची के माध्यम से ही व्यापारी अनुबंध कटाकर मंडी शुल्क भी जमा करता है। क्योंकि उपज की आवक का एक मात्र प्रमाण मंडी कार्यालय के पास उसी पर्ची के माध्यम से होता है। जानकारी के लिए बता दें कि पर्ची में किसान के गांव, सहित पूरी जानकारी लिखने के लिए विगत सप्ताह मंडी प्रबंधन ने गेट कर्मचारी को नोटिस भी जारी किया था, इसके बावजूद मंडी गेट कर्मचारी अपनी मनमानी कर रहे हैं।

इनका कहना है
मंडी में प्रवेश के लिए चार पहिया वाहन को 10 रुपए, उससे अधिक पहिए के वाहन को सिर्फ 20 रुपए देना है। इससे अधिक राशि किसी भी समय नहीं ली जा सकती है।
शिवदयाल अहिरवार, निरीक्षक कृषि उपज मंडी कुसमेली

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Amravati Murder Case: उमेश कोल्हे की हत्या का मास्टरमाइंड नागपुर से गिरफ्तार, अब तक 7 आरोपी दबोचे गए, NIA ने भी दर्ज किया केसमोहम्‍मद जुबैर की जमानत याचिका हुई खारिज,दिल्ली की अदालत ने 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेजाSharad Pawar Controversial Post: अभिनेत्री केतकी चितले ने लगाए गंभीर आरोप, कहा- हिरासत के दौरान मेरे सीने पर मारा गया, छेड़खानी की गईIndian of the World: देवेंद्र फडणवीस की पत्नी अमृता फडणवीस को यूके पार्लियामेंट में मिला यह पुरस्कार, पीएम मोदी को सराहाGujarat Covid: गुजरात में 24 घंटे में मिले कोरोना के 580 नए मरीजयूपी के स्कूलों में हर 3 महीने में होगी परीक्षा, देखे क्या है तैयारीराज्यसभा में 31 फीसदी सांसद दागी, 87 फीसदी करोड़पतिकांग्रेस पार्टी ने जेपी नड्डा को BJP नेता द्वारा राहुल गांधी से जुड़ी वीडियो शेयर करने पर लिखी चिट्ठी, कहा - 'मांगे माफी, वरना करेंगे कानूनी कार्रवाई'
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.