स्वास्थ्य निरीक्षक रिश्वत लेते गिरफ्तार

arun garhewal

Publish: Dec, 07 2017 10:57:33 (IST)

Chhindwara, Madhya Pradesh, India
स्वास्थ्य निरीक्षक रिश्वत लेते गिरफ्तार

सफाई कामगार का वेतन जारी करने के लिए उससे 7000 रुपए की रिश्वत मांगने वाले महानगर पालिका के स्वास्थ्य निरीक्षक के खिलाफ एंटी करप्शन ब्यूरो ने मामला दर्

मनपा स्वास्थ्य निरीक्षक रिश्वत लेते गिरफ्तार
नागपुर . सफाई कामगार का वेतन जारी करने के लिए उससे 7000 रुपए की रिश्वत मांगने वाले महानगर पालिका के स्वास्थ्य निरीक्षक के खिलाफ एंटी करप्शन ब्यूरो ने मामला दर्ज कर गिरफ्तार कर लिया।
पकड़ा गया आरोपी गोविंद श्यामलाल खरे (49) बताया गया। खरे मनपा के महल जोन कार्यालय में प्रभारी स्वास्थ्य निरीक्षक है। शिकायतकर्ता मनपा के महल जोन में ही सफाई कामगार पद पर कार्यरत है। उसे सितंबर महीने का वेतन नहीं मिला था। वेतन मिलने के लिए उसने जोन कार्यालय में आवेदन दिया। खरे ने वेतन जारी करने के लिए 7000 रुपए की रिश्वत मांगी। शिकायतकर्ता रिश्वत नहीं देना चाहता था। उसने मामले की शिकायत एसीबी से की। एसीबी ने जांच शुरू की। फोन वेरिफिकेशन कर खरे को रंगेहाथ पकडऩे के लिए करीब एक महीने पहले जाल भी बिछाया, लेकिन उसने रकम नहीं ली। इस बीच जांच अधिकारी का तबादला हो गया। एसपी पीआर पाटिल के मार्गदर्शन में इंस्पेक्टर फाल्गुन घोड़मारे, कांस्टेबल लक्ष्मण परतेती, प्रभाकर बेले, मंगेश कलंबे और परसराम ने मामले की जांच कर खरे के घर पर दबिश दी। हाउस सर्च के दौरान टीम के हाथ कुछ खास नहीं लगा। तबीयत ठीक न होने के कारण खरे की गिरफ्तारी नहीं हुई। बुधवार को एसीबी ने मामला दर्ज कर खरे को गिरफ्तार कर लिया। उसे न्यायालय में पेश किया गया, लेकिन पुलिस हिरासत के लिए कोई मुद्दा नहीं होने के कारण उसे जमानत मिल गई।
मनसे नेता हमले मामले में एक को मिली जमानत
नागपुर. मनसे नेता संतोष बदरे का अपहरण कर मारपीट करने वाले विधायक बच्चू कडू के रिश्तेदार और प्रहार संगठन के पदाधिकारी तुषार पुंडकर (31) को गिरफ्तार कर उसे न्यायालय में पेश किया गया। अदालत ने तुषार को जमानत पर रिहा किया है। इस मामले में तुषार के साथी फरार है।
ज्ञात हो कि मनसे अध्यक्ष राज ठाकरे पर टिप्पणी करने के कारण संतोष ने विधायक कडू को फोन पर मारने की धमकी दी थी। इसकी आडियो क्लिप वायरल होने से खलबली मची हुई थी। संतोष की पतनी कांचन का धंतोली के निजी अस्पताल में उपचार चल रहा है। संतोष अपने मित्र दीपक वैद्य के साथ पत्नी से मिलने अस्पताल जा रहा था। इसी दौरान तुषार और उसके साथियों ने संतोष को जनता चौक पर रुकाया। रॉड, हॉकी और चाकू से धमकाकर जबरन गाड़ी में बैठाया। गाड़ी के भीतर संतोष से जमकर मारपीट की, लेकिन रहाटे कॉलोनी के पास ट्रैफिक पुलिस ने गाड़ी को रोक लिया।
अन्य आरोपी फरार हो गए, लेकिन तुषार पुलिस के हाथ लग गया। पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ अपहरण, मारपीट और दंगा करने सहित विविध धाराओं के तहत मामला दर्ज किया। फरार हुए आरोपियों के बारे में पुलिस को जानकारी तो मिल गई है, लेकिन फिलहाल सभी गिरफ्त से बाहर है।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned