Health: कर्मचारियों के पैसों पर कुंडली मारकर बैठे अधिकारी, जानें वजह

- तीन माह बाद पल्स पोलियो का नहीं किया भुगतान

 

By: Dinesh Sahu

Published: 19 Mar 2020, 12:17 PM IST

छिंदवाड़ा/ राष्ट्रीय टीकाकरण कार्यक्रम के तहत जिले में चलाए गए पल्स पोलियो अभियान में शामिल मैदानी कार्यकर्ताओं को तीन महीने बाद भी मेहनताना का भुगतान नहीं किया गया है। ऐसे में अन्य राष्ट्रीय अभियानों के संचालन में कर्मचारी रुचि नहीं दिखाते है तथा शतप्रतिशत सफलता भी नहीं मिल पाती है।

उल्लेखनीय है कि राष्ट्रीय टीकाकरण कार्यक्रम के तहत 19 जनवरी 2020 से तीन दिवसीय पल्स पोलियो अभियान चलाया गया था, जिसमें एएनएम, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, जीएनटी स्टूडेंट, सुपरवाइजर, एनजीओ समेत अन्य मैदानी कार्यकर्ताओं का सहयोग लिया जाता है। शासन द्वारा कार्यक्रम संचालित करने के लिए आवश्यक बजट भी प्रदान किया जाता है, जिसके बावजूद तीन-तीन महीने मानदेय का भुगतान नहीं किया जाता है।


75 रुपए प्रतिदिन करना होता है भुगतान -

राष्ट्रीय टीकाकरण कार्यक्रम में शामिल सहयोगियों को शासन की गाइडलाइन के तहत प्रतिदिन 75 रुपए के हिसाब से तीन दिन के 225 भुगतान किया जाने का प्रावधान है। लेकिन जिले की 390 एएनएम, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, जीएनटी स्टूडेंट, सुपरवाइजर, एनजीओ समेत अन्य को भुगतान नहीं किया गया है। इधर हितग्राही विभागीय अधिकारियों के चक्कर लगाकर मायूस होकर लौट रहे है।


फैक्ट फाइल - अभियान के पहले दिन की स्थिति -

1. जिले में बच्चों को दवा पिलाने का लक्ष्य - 245602

2. पहले दिन बच्चों को पिलाई गई दवा संख्या - 202130

3. दवा पिलाने के लिए निर्धारित किए गए पोलियो बूथ - 2120

4. ट्रांजिक्ट बूथों की संख्या - 31

5. मोबाइल बूथों की संख्या - 19

6. वैक्सीनेटरों की संख्या - 4715

Show More
Dinesh Sahu
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned