ऐसे मॉस्क की वजह से भड़के स्वास्थ्य कर्मी, जानें वजह

- विभागीय कर्मचारियों ने लगाया आरोप, कहा सेहत से हो रहा खिलवाड़

By: Dinesh Sahu

Published: 27 Sep 2020, 12:02 PM IST

छिंदवाड़ा/ छिंदवाड़ा इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेस से सम्बद्ध जिला अस्पताल में सेवा दे रहे स्वास्थ्य महकमे को गुणवत्ता युक्त सामग्री प्रदान नहीं की जा रही है तथा कर्मचारियों की सेहत को लेकर विभागीय अधिकारी भी गंभीर नहीं है। यह आरोप विभाग के ही स्वास्थ्य कर्मचारियों ने लगाए है। कर्मचारियों ने बताया कि कार्य के दौरान उन्हें मुंह में लगाने के लिए जो मॉस्क दिया जा रहा है, उसकी गुणवत्ता बहुत खराब है तथा इससे संक्रमण का भय बढ़ जाएगा।

इतना ही नहीं वार्डों में ड्यूटी करने वाले स्टॉफ को पीपीइ किट, हैंडसेनेटाइजर, जूते आदि भी नहीं दिए जा रहे है, ऐसे में उनके स्वास्थ्य पर प्रतिकूल प्रभाव पडऩे की अशंका जताई गई है। कर्मचारियों ने बताया कि लगातार स्वास्थ्य विभाग से डॉक्टर, स्टाफ नर्स, वार्ड ब्वाय आदि कोरोना पॉजिटिव होते जा रहे है। कर्मचारियों ने संक्रमण से सुरक्षा के लिए दी जा रही सामग्री को गुणवत्तायुक्त दिए जाने की बात कही है।


जबलपुर से होती है आपूर्ति -


जिले में कोरोना वायरस संक्रमण से सुरक्षा के लिए सामग्री जबलपुर से उपलब्ध कराई जाती है। बताया जाता है कि वर्तमान में मॉस्क, हैंडसेनेटाइजर, हैंड ग्लोब्स, पीपीइ किट आदि की मांग सामान्य दिनों की अपेक्षा चार गुना बढ़ गई है। मिली जानकारी के अनुसार जिला अस्पताल में प्रतिदिन 300 से 400 मॉस्क, 100 से 150 पीपीइ किट, 400 से 500 हैंड ग्लोब्स तथा कई लीटर सेनेटाइजर उपयोग हो रहा है।


- बदलने के दिए गए है निर्देश


अस्पताल में उक्त सामग्रियों की मांग बहुत बढ़ गई है तथा मांग अधिक होने से आपूर्ति एजेंसी ने संभवता जल्दबाजी में निम्नगुणवत्ता का मटेरियल दिया होगा, जिसे शीघ्र बदलने के निर्देश दिए गए है।


- डॉ. पी. कौर गोगिया, सिविल सर्जन

COVID-19
Show More
Dinesh Sahu
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned