यहां डीपीसी ने की करोड़ों की हेराफेरी

babanrao pathe

Publish: Nov, 15 2017 11:57:31 (IST)

Chhindwara, Madhya Pradesh, India
यहां डीपीसी ने की करोड़ों की हेराफेरी

जांच पूरी होने और साक्ष्य जुटाने के बाद आरोपियों की गिरफ्तारी शुरू करेगी। प्रकरण में पुलिस ने छह लोगों को आरोपी बनाया है।

छिंदवाड़ा. जिला शिक्षा केंद्र में हुए पौने दो करोड़ गबन के मामले का आरोपी डीपीसी फरार हो चुका है। पुलिस दस्तावेज और साक्ष्य जुटा रही है। आरोपी ने अग्रिम जमानत के लिए न्यायालय में आवेदन प्रस्तुत किया था, जिसे खरिज कर दिया गया है। जांच पूरी होने और साक्ष्य जुटाने के बाद आरोपियों की गिरफ्तारी शुरू करेगी। प्रकरण में पुलिस ने छह लोगों को आरोपी बनाया है।
छिंदवाड़ा जिला शिक्षा केंद्र में पदस्थ जीएल साहू पर बैतूल जिला शिक्षा केंद्र में पदस्थ रहते घोटाला करने का आरोप है। पौने दो करोड़ रुपए के घोटाले की परत रचने के मामले की जांच बैतूल पुलिस कर रही है। आलमारी में बंद फाइलों के सामने आने के बाद घोटाले से जुड़ी रकम भी बढ़ गई है। वित्तीय दस्तावेजों की जांच के बाद यह सामने आया है कि झिरिया डोह स्कूल में आरबीसी का एक अन्य गुमनाम खाता संचालित होना
पाया गया। खाते में तीन लाख रुपए से अधिक राशि मौजूद थी। जिससे 1.88 करोड़ का यह
घोटाला 1.91 करोड़ पर पहुंच गया है। जांच के दौरान विभाग को सिर्फ दो खाते ही झिरिया डोह मेें संचालित होना पता था जिसमें
एक करोड़ के लगभग राशि स्थानांतरित की गई थी, लेकिन एक अन्य खाते के सामने आने के बाद गबन की राशि बढऩा बताया जा रहा है। जिला शिक्षा केंद्र बैतूल में वित्तीय लेनदेन की फाइलों एवं मामलों का परीक्षण जिला कोषालय अधिकारी करेंगे। बैतूल कलेक्टर ने टीओ को इसके लिए अधिकृत कर दिया है। टीओ के परीक्षण करने के बाद ही निर्माण सहित अन्य कार्यों में वित्तीय मंजूरी अधिकृत हो सकेगी। गबन मामले के बाद विभाग ने भी वित्तीय सम्बंधी दस्तावेजों का परीक्षण करना शुरू कर दिया है।

बयान दर्ज किए

जिला शिक्षा केंद्र में पदस्थ सभी अधिकारियों एवं कर्मचारियों के बयान दर्ज किए जा चुके हैं। सभी साक्ष्य जुटाने के बाद आरोपियों की गिरफ्तारी की जाएगी। प्रकरण में जीएल साहू, मुकेश सिंह चौहान, इंद्रमोहन तिवारी, रावेंद्र तिवारी, सुनील सुनारिया एवं दिनेश देशमुख को आरोपी बनाया गया है।

पार्वती सोलंकी, एसडीओपी, बैतूल

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned