Higher education: अतिरिक्त संचालक के सामने उठा लाइब्रेरी भवन का मुद्दा, प्राचार्य ने दिया यह सुझाव

रूसा के अंतर्गत होने वाले कार्यों के संबंध में बैठक हुई।

By: ashish mishra

Published: 26 Aug 2020, 01:41 PM IST

छिंदवाड़ा. उच्च शिक्षा विभाग जबलपुर संभाग की अतिरिक्त संचालक डॉ. लीला भलावी का मंगलवार को छिंदवाड़ा आगमन हुआ। उन्होंने पहले शासकीय परासिया कॉलेज का निरीक्षण किया। यहां रूसा के अंतर्गत होने वाले कार्यों के संबंध में बैठक हुई। इसके पश्चात वह पीजी कॉलेज पहुंची। यहां उन्होंने कॉलेज स्टाफ के साथ बैठक कर उनकी समस्याएं जानी। प्राचार्य डॉ. अमिताभ पांडेय ने अतिरिक्त संचालक के सामने लाइब्रेरी भवन का मुद्दा उठाया। दरअसल बीते वर्ष पीजी कॉलेज में रूसा एवं उच्च शिक्षा विभाग मद से एक करोड़ 30 लाख रुपए की लागत से लाइब्रेरी भवन का निर्माण किया गया था। हालांकि भवन में नवीन स्थापित छिंदवाड़ा विश्वविद्यालय का प्रशासनिक कार्य संपादित होने लगा। ऐसे में कॉलेज विद्यार्थियों को भवन की सुविधा नहीं मिल पाई। पीजी कॉलेज प्राचार्य ने अतिरिक्त संचालक से कहा है कि अगर लाइब्रेरी भवन कॉलेज को हैंडओवर हो जाए तो फिर विद्यार्थियों को सुविधा तो मिलेगी ही साथ ही नैक मूल्यांकन के समय भी फायदा होगा। छिंदवाड़ा विश्वविद्यालय को परतला के पास बनाए गए शासकीय लॉ कॉलेज भवन में स्थानांतरित किया जा सकता है। प्राचार्य ने पीजी कॉलेज भवन के जर्जर स्थिति से भी अतिरिक्त संचालक को अवगत कराया। जिस पर अतिरिक्त संचालक ने कहा कि आप उच्च शिक्षा विभाग को पत्र लिखते रहिए और रिमांइडर तब तक कराइए जब तक जवाब न आ जाए। अतिरिक्त संचालक ने समस्याओं के निराकरण का आश्वासन दिया। अतिरिक्त संचालक ने कॉलेजों को कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव के लिए जारी किए गए नियमों के पालन सुनिश्चित कर प्रवेश प्रक्रिया एवं अन्य गतिविधियों को संचालित करने की बात कही।

कॉलेज प्रांगण में किया पौधरोपण
अतिरिक्त संचालक ने पीजी कॉलेज में पौधरोपण किया और गतिविधियों की प्रशंसा की। इस अवसर पर डॉ. अनिल जैन, डॉ. निखिल कानूनगो, डॉ. पीएन सनेसर, डॉ. शेखर ब्रम्हने, डॉ. लक्ष्मीचंद, डॉ. इरफान अहमद, डॉ. संध्या शर्मा, डॉ. दीप्ति जैन, अनिल दुबे सहित कॉलेज स्टाफ मौजूद रहा।

ashish mishra Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned