Higher education: कॉलेज विद्यार्थियों ने परीक्षा व्यवस्था पर उठाए सवाल, रखी यह मांग

परीक्षा फीस ली गई है तो विद्यार्थियों को यह सुविधा देनी चाहिए।

By: ashish mishra

Published: 07 Sep 2020, 11:49 AM IST

छिंदवाड़ा. उच्च शिक्षा विभाग की गाइडलाइन के अनुसार विश्वविद्यालय द्वारा कॉलेजों में अध्ययरत विद्यार्थियों के असाइनमेंट एवं ओपन बुक पद्धति से परीक्षा की प्रक्रिया को लेकर विद्यार्थी सवाल उठा रहे हैं। विद्यार्थियों का कहना है कि विश्वविद्यालय द्वारा हमसे परीक्षा फीस ले ली गई और अब कहा जा रहा है कि हम स्वयं उत्तर पुस्तिका का इंतजाम करें। जब परीक्षा फीस ली गई है तो विद्यार्थियों को यह सुविधा देनी चाहिए। जिला छात्रसंघ अध्यक्ष रेशमा खान का कहना था कि अगर विश्वविद्यालय उत्तर पुस्तिका नहीं दे सकता तो हर विद्यार्थी की परीक्षा फीस वापस होनी चाहिए। गौरतलब है कि कोरोना वायरस के संक्रमण के खतरे को देखते हुए इस बार स्नातक अंतिम वर्ष एवं स्नातकोत्तर चतुर्थ सेमेस्टर की परीक्षाएं ओपन बुक पद्धति से परीक्षा एवं शेष सेमेस्टर एवं वार्षिक प्रणाली से अध्ययरत विद्यार्थियों को असाइमनमेंट के आधार पर उत्तीर्ण किया जाएगा। प्रश्नपत्र विवि के वेबसाइट पर अपलोड किए जाएंगे। जिसे डाउनलोड कर विद्यार्थी घर पर ही बैठकर प्रश्नपत्र हल करेगा और उत्तर पुस्तिका घर के नजदीक बनाए गए संग्रहण केन्द्र में जमा करेगा।

इनका कहना है...
उच्च शिक्षा विभाग ने जो गाइडलाइन जारी की है उसका पालन किया जा रहा है। कोरोना संक्रमण से बचाव को लेकर ही असाइनमेंट एवं ओपन बुक पद्धति से परीक्षा का आयोजन किया जा रहा है।
डॉ. राजेन्द्र मिश्र, कुलसचिव, छिंदवाड़ा विवि

ashish mishra Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned