scriptHospital...no transfer of new building, these problems are coming | अस्पताल...नई बिल्डिंग का हस्तांतरण नहीं, आ रही ये समस्याएं | Patrika News

अस्पताल...नई बिल्डिंग का हस्तांतरण नहीं, आ रही ये समस्याएं

तीन साल से मेडिकल कॉलेज और पीआईयू के बीच विवाद, सुलझा नहीं पा रहे अधिकारी, हर दिन बिल्डिंग में आ रही समस्याएं

छिंदवाड़ा

Updated: June 11, 2022 09:37:27 pm

छिंदवाड़ा. जिला अस्पताल की नई बिल्डिंग के हस्तांतरण का पेंच तीन साल से मेडिकल कॉलेज और पीआईयू के बीच फंसा हुआ हैं। लगातार अधिकारियों की बातचीत के बाद भी मसला सुलझ नहीं पा रहा हैं। इसके चलते अस्पताल में कभी बिजली उपकरणों की गड़बड़ी सामने आ रही है तो वहीं लेट्रिंग, बाथरुम और डे्रनेज सिस्टम मेंं खामी आ रही है। मरीज, परिजन और चिकित्सकीय स्टाफ परेशान हो रहे हैं।
तीन साल पहले 2019 में अस्पताल की पांच मंजिला नई बिल्डिंग मेडिकल कॉलेज के निर्माण के साथ 177 करोड़ रुपए में जेपी इंफ्रा कंपनी ने तैयार की थी। कमलनाथ सरकार के समय बिल्डिंग तैयार करते समय ही इसका औपचारिक उद्घाटन कर दिया गया था। उसके बाद से पीआईयू और मेडिकल कॉलेज प्रबंधन ेके बीच बिल्डिंग हस्तांतरण का मुद्दा बना हुआ है। बिल्डिंग के उपयोग से लगातार खामियां निकल रही है। दोनों विभागों के अधिकारी तर्क दे रहे हैं।
पिछले दिसम्बर 2021 में विद्युत सुरक्षा विभाग के माध्यम से कराए गए ऑडिट में 25 बिन्दुओं से अधिक उपकरण और सर्विस की खामी निकाली गई थी। ऑडिट में सहायक यंत्री ने सिविल सर्जन को दी रिपोर्ट में कहा गया था कि अस्पताल की विद्युत सुरक्षा के लिए किसी ठेकेदार को अनुबंधित नहीं किया गया है। डीजी सेट स्थापित करने के लिए विद्युत सुरक्षा निरीक्षक तक की अनुमति नहीं ली। ऑडिट में ट्रांसफार्मर, अंदरुनी लाइन, अर्थ कनेक्शन, मेन कंट्रोल रुम में अलग खामियां निकाली गई थी। सिविल सर्जन से त्रुटियों को जल्द ठीक कराने के लिए कहा गया था।
.....
पीआईयू के पास भी पहुंची ऑडिट रिपोर्ट
इस बिजली ऑडिट रिपोर्ट को सिविल सर्जन से मेडिकल कॉलेज डीन और फिर पीआईयू के संभागीय यंत्री के पास पहुंचाया गया था। अस्पताल के कर्मचारियों की माने तो बिजली ऑडिट के अनुसार कोई भी तकनीकी गड़बड़ी सुधारी नहीं गई हैं। गर्मी में ट्रांसफार्मर व बिजली लाइन में लगातार खराबी आ रही है। बिजली हादसे की आशंका भी बनी हुई है।
....
लेट्रिंग-बाथरुम और डे्रेनेज सिस्टम भी बिगड़ा
अस्पताल की ओपीडी से लेकर हर वार्ड के लेट्रिंग-बाथरुम तथा डे्रेनेज सिस्टम जमा हो गए हैं। इसकी शिकायत करने पर भी सुनवाई नहीं हो पा रही है। इसके लिए किसी तकनीकी दल को नियुक्त नहीं किया गया है। मरीज और परिजन भी हलाकान है।
...
इनका कहना है..
जिला अस्पताल की नई बिल्डिंग की बिजली ऑडिट और तकनीकी खामी पर ध्यान दिलाया है तो इस बारे में संंबंधित अधिकारी से बात करेंगे। जहां तक बिल्डिंग हस्तांतरण का सवाल है, मेडिकल कॉलेज प्रबंधन कोई न कोई समस्या बनाकर उसे नहीं ले रहा हैं। इस बारे में लगातार पत्राचार और बैठकें हुई हैं।
-निलेश गुप्ता, संभागीय परियोजना यंत्री, पीआईयू।

hospital chhindwara
hospital chhindwara

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

हैदराबाद : बीजेपी की बैठक का आज दूसरा दिन, पीएम मोदी करेंगे संबोधितNIA की टीम ने केमिस्ट की हत्या की जांच के लिए महाराष्ट्र के अमरावती का किया दौराभाजपा ने राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में 'अर्थव्यवस्था' और 'गरीब कल्याण' पर प्रस्ताव किया पारित, साथ ही की 'अग्निपथ योजना' की सराहनाUdaipur murder case: गुस्साए वकीलों ने कन्हैया के हत्यारों के जड़े थप्पड़, देखें वीडियोजयपुर में केमिकल फैक्ट्री में लगी भीषण आग, एक किलोमीटर दूर तक दिखाई दे रहा धुएं का गुबारAmravati Murder Case: उमेश कोल्हे की हत्या का मास्टरमाइंड नागपुर से गिरफ्तार, अब तक 7 आरोपी दबोचे गए, NIA ने भी दर्ज किया केसSharad Pawar Controversial Post: अभिनेत्री केतकी चितले ने लगाए गंभीर आरोप, कहा- हिरासत के दौरान मेरे सीने पर मारा गया, छेड़खानी की गईIndian of the World: देवेंद्र फडणवीस की पत्नी अमृता फडणवीस को यूके पार्लियामेंट में मिला यह पुरस्कार, पीएम मोदी को सराहा
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.