अधिवक्ता के सामने फूटा आक्रोश

अधिवक्ता के सामने फूटा आक्रोश

Prem Dehariya | Publish: Jun, 14 2018 05:58:11 PM (IST) Chhindwara, Madhya Pradesh, India

तिगांव के किसानों की मुसीबत बढ़ी इलाहबाद बैंक की तिगांव शाखा ने खाताधारक किसानों की मुश्किल बढ़ा रखी है।

पांढुर्ना. तिगांव के किसानों की मुसीबत बढ़ी इलाहबाद बैंक की तिगांव शाखा ने खाताधारक किसानों की मुश्किल बढ़ा रखी है। इस शाखा के किसानों को अपने केसीसी लोन के लिए बैंक द्वारा नियुक्त किए गए पैनल अधिवक्ता का पूरे सप्ताह इंतजार करना पड़ता है। जिससे किसानों को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। किसानों ने बताया कि अधिवक्ता देवेंद्र ढोबले सप्ताह में दो दिन मंगलवार और शुक्रवार को यहां आते है। वो भी दोपहर बाद। तो कभी 5 बजे पहुंचते है। जिससे किसानों को पूरा दिन इंतजार करना पड़ता है। सही समय पर काम भी नही होता। मंगलवार को जब पैनल अधिवक्ता आए तो उन्हीं के सामने किसानों का आक्रोश फूट पड़ा। ग्राम तिगांव के किसान नरेंद्र ठाकरे, मोहन चंदेल, गजानन वनोडे के साथ पहुंचे पिपलपानी, बोरगांव के किसानों ने बताया कि बोवनी का समय है और हमें शीघ्र केसीसी लोन चाहिए परंतु बैंक के द्वारा नियुक्त पैनल अधिवक्ता की सर्च रिपोर्ट के बिना कोई प्रबंधक लोन स्वीकृत नहीं करता है। किसानों ने बताया कि अधिवक्ता देवेंद्र ढोबले सप्ताह में दो दिन मंगलवार और शुक्रवार को यहां आते है। वो भी दोपहर बाद। तो कभी 5 बजे पहुंचते है। जिससे किसानों को पूरा दिन इंतजार करना पड़ता है। सही समय पर काम भी नही होता। बैंक के अधिकारियों ने सांठगाठ कर सौंसर के अधिवक्ता को पैनल अधिवक्ता नियुक्त किया है जिससे किसान तो परेशान हो लेकिन सर्च रिपोर्ट के नाम पर ली जाने वाली फीस में हिस्सा मिले।
हमारी फीस बैंक के मेनुअल के हिसाब है। इसमें छिंदवाड़ा आना जाना का चार्ज जुड़ा हुआ
है। किसान के द्वारा आवेदन दिए जाने के तीसरे दिन हम उसे सर्च रिपोर्ट दे देते है।
देवेन्द्र ढोबले, अधिवक्ता
किसानों की शिकायत मुझे भी मिली है। हम इस शिकायत को ऊपर भेजकर स्थानीय अधिवक्ता को नियुक्त करने की कार्रवाई करने की मांग करेंगे।
जेएच मंसूरी, प्रबंधक,
इलाबाद बैंक शाखा तिगांव

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned