यहां जल्द मिलेगी ट्रेन की सौगात, सीआरएस ने किया निरीक्षण, देखें वीडियो

Ashish Kumar Mishra | Publish: Mar, 17 2019 11:47:36 AM (IST) Chhindwara, Chhindwara, Madhya Pradesh, India

निरीक्षण का शुभारंभ पूजन के साथ किया।

 

छिंदवाड़ा. दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे नागपुर मंडल के अंतर्गत छिंदवाड़ा से नागपुर अमान परिवर्तन में केलोद से भिमालगोंदी तक कुल 44 किमी में बनाए गए नए रेलमार्ग का निरीक्षण करने शनिवार को कलकत्ता से कमिश्नर ऑफ रेलवे सेफ्टी(सीआरएस) एके राय पहुंचे। उन्होंने निरीक्षण का शुभारंभ भिमालगोंदी में नागपुर मंडल डीआरएम शोभना बंदोपाध्याय एवं रेलवे के विभिन्न विभाग के अधिकारियों, कर्मचारियों की उपस्थिति में पूजन के साथ किया। इसके पश्चात मोटर ट्राली से प्वाइंट टू प्वाइंट संरक्षा एवं सुरक्षा के हर बिन्दु पर हुए कार्यों की जांच की। इस दौरान खामियां पाए जाने पर सुधार के निर्देश दिए। वहीं कुछ कार्यों में निर्माण विभाग के अधिकारियों की प्रशंसा भी की। इससे पहले सीआरएस आठ बोगी की ट्रेन के साथ इतवारी से भिमालगोंदी पहुंचे। बताया जाता है कि इस दौरान अनौपचारिक रूप से स्पीड ट्रायल भी हुआ। ट्रेन की गति लगभग 113 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से रही। हालांकि पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार सीआरएस रविवार को भिमालगोंदी से केलोद तक स्पीड ट्रायल करेंगे। जिसके बाद वह भिमालगोंदी से केलोद तक निर्माण विभाग द्वारा बनाए गए नए रेलमार्ग को सर्टिफाइड करने या फिर न करने का निर्णय लेंगे।

 

इन बिन्दुओं पर रही नजर
सीआरएस ने भिमालगोंदी से केलोद तक मोटर ट्राली से निरीक्षण के दौरान रेलमार्ग में बने छोटे-बड़े ब्रिज, स्टेशन बिल्डिंग, पैनल, सिग्नल, गेट सहित संरक्षा एवं सुरक्षा के लिहाज से हर बिन्दु पर निरीक्षण किया।

दो माह में दूसरा निरीक्षण
छिंदवाड़ा से नागपुर तक जल्द लोगों को ट्रेन मिले इसके लिए जनवरी 2019 से प्रयास तेज हो गए हैं। यही वजह है कि सीआरएस एके राय ने 12 एवं 13 जनवरी को इतवारी से केलोद तक बनाए गए रेलमार्ग का निरीक्षण कर लगभग एक हफ्ते बाद ही सर्टिफाइड लेटर जारी कर दिया था। इसके पश्चात लगभग दो माह बाद ही सीआरएस ने शनिवार को केलोद से भिमालगोंदी तक निरीक्षण कर लिया।


अब बचेगा आखिरी खंड, फिर मिलेगी नागपुर तक ट्रेन
रेलवे निर्माण विभाग द्वारा छिंदवाड़ा से नागपुर तक (149 किमी रेलमार्ग)गेज कन्वर्जन के कार्यों को कुल चार खंड में पूरा किया जा रहा है। जिसमें दो खंड में ट्रेन का परिचालन किया जा रहा है। तीसरे खंड में केलोद से भिमालगोंदी तक बनाए गए रेलमार्ग के सीआरएस द्वारा सर्टिफाइड किए जाने के बाद ट्रेन दौडऩे लगेगी। इसके पश्चात चौथा एवं आखिरी खंड भिमालगोंदी से भंडारकुंड रेलमार्ग रह जाएगा। 20 किमी में बनाए गए इस रेलमार्ग का अधिकतर हिस्सा घाट सेक्शन में आता है। जिसमें दो बड़ी सुरंग भी है। इस खंड के अधिकतर कार्य भी पूरे हो चुके हैं। हालांकि पटरी बिछाने का कार्य अभी चल रहा है। यहां सीआरएस के निरीक्षण एवं सर्टिफिकेशन मिलने के बाद ट्रेन का परिचालन शुरु किया जाएगा। अनुमान है कि चार से पांच माह में यहां कार्य पूरा होगा। इसके पश्चात लोगों को छिंदवाड़ा से नागपुर तक सीधे ट्रेन मिलेगी।

 

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned