भाभी जी घर पर हैं सीरियल में दिखेगा दरोगा हप्पू सिंह का दसवां बच्चा भी

टीवी सीरियल ‘भाभी जी घर पर हैं’ के कलाकार योगेश त्रिपाठी ने सुनाए अनुभव

By: Rajendra Sharma

Published: 28 Jan 2018, 06:00 PM IST

- अरे दादा..ये छिंदवाड़ा के लोग बहुत बड़ी चिरान हैं
छिंदवाड़ा. अरे दादा..ये छिंदवाड़ा के लोग बहुत बड़ी चिरान है यार..जैसे ही ये डॉयलॉग अपने चिरपरिचित हास्य अंदाज में दरोगा हप्पू सिंह का किरदार निभाने वाले योगेश त्रिपाठी ने सुनाया तो उपस्थित लोग हंस-हंस कर लोट पोट हो गए। गणतंत्र दिवस पर शुक्रवार को यह मौका था पोला ग्राउंड पर आयोजित तिरंगा यात्रा की शुरुआत का। इस कार्यक्रम में टीवी सीरियल ‘भाभी जी घर पर हैं’ के इस बहुचर्चित कलाकार ने गुदगुदाया। बाद में उन्होंने मीडिया से चर्चा करते हुए अपनी जीवन यात्रा के अनछुए पहलुओं को साझा किया।
मूलत: यूपी के झांसी के रहने वाले योगेश ने बताया कि लखनऊ में शिक्षा-दीक्षा अर्जित करने के बाद वे मुंबई चले गए, जहां डेढ़ साल संघर्ष के बाद उन्हें टीवी सीरियल में रोल मिलना शुरू हो गए। उन्होंने बालिका वधु और एफआईआर में छह साल तक काम किया। फिर तीन साल पहले उन्हें ‘भाभी जी घर पर हैं’ सीरियल में दरोगा हप्पू सिंह का रोल मिला। इस हास्य रोल को आम जनता खूब पसंद करती है। उन्होंने पूरे देश में नुक्कड़ नाटक भी किए।
इस टीवी सीरियल में फूहड़़ता और मजाक समाज को परोसने के सवाल पर कलाकार ने कहा कि यह सीरियल आम लोगों का मनोरंजन करता है। इसके किरदारों को बच्चे भी पसंद करते हैं। सीरियल में ‘निछावर’ शब्द के उपयोग पर पुलिस की नाराजगी के प्रश्न पर योगेश ने कहा कि इससे पुलिस वाले नाराज नहीं होते बल्कि वे ज्यादा देखते हैं। कई पुलिस अधिकारियों ने एंटरटेनमेंट होने की बात कहीं।

सीरियल में दिखेगा दसवां बच्चा भी

नौ-नौ ठठिया बच्चे और एक प्रेगनेंट बीबी के डॉयलॉग और उनके सीरियल में नजर नहीं आने के प्रश्न पर योगेश का कहना पड़ा कि यह सीरियल की कहानी का हिस्सा है। सीरियल को अभी लम्बा चलाना है इसलिए इसे ओपन नहीं किया गया है। आगे सीरियल में दरोगा की फैमली दिखाई देगी। उन्होंने हंसते हुए कहा कि सीरियल में दसवां बच्चा भी होगा। कई बार उनके पेट को देखकर लोग उन्हें प्रेगनेंट कह देते हैं।

छिंदवाड़ा में अगले बार वर्दी के साथ

सीरियल के (बड़े पेट वाले) लुक से अलग नजर आए योगेश ने बताया कि यह सीरियल की मांग का लुक है। अगली बार जब वे छिंदवाड़ा आएंगे तो वर्दी के साथ नजर आएंगे और लोगों का मनोरंजन करेंगे। सीरियल में बुंदेलखंडी भाषा अरे दादा..हव, इते, उते, काय..जैसे शब्द के इस्तेमाल के प्रश्न पर कहा कि झांसी के होने से उन्होंने सीरियल में इसका प्रयोग कराया। इससे लोग शो को पसंद करते हैं।

घर के लोग नहीं देख पाते हमारा सीरियल

अपनी पारिवारिक स्थिति पर चर्चा करते हुए त्रिपाठी ने बताया कि उनकी फैमिली झांसी की है। वे सभी शिक्षक हैं। वे रात को जल्दी सो जाने से कभी सीरियल नहीं देख पाते। घर का माहौल कभी फिल्मी नहीं रहा। झांसी में बीएससी मैथ्स की शिक्षा लेने के बाद लखनऊ में थियेटर किया। फिर मुंबई आए। उन्होंने फिल्म के सवाल पर कहा कि लोग उन्हें जल्द ही फिल्म में देख पाएंगे। इसकी शूटिंग आगरा में हुई है। छिंदवाड़ा आगमन के बारे में कहा कि वे अपने गुरु प्रकाश टाटा के आमंत्रण पर छिंदवाड़ा आए है और आगे भी यहां आते रहेंगे। यहां संजय भारद्वाज, मोहित हरदेने समेत अन्य युवाओं द्वारा आयोजित तिरंगा यात्रा में हिस्सा लिया।

Rajendra Sharma Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned