छिंदवाड़ा के संतरों पर इजराइल की नजर, पहुंचे राजनीतिज्ञ

छिंदवाड़ा के संतरों पर इजराइल की नजर, पहुंचे राजनीतिज्ञ
Israeli technique will be born from oranges

Prabha Shankar Giri | Updated: 26 Jun 2019, 08:00:00 AM (IST) Chhindwara, Chhindwara, Madhya Pradesh, India

बागवानी के क्षेत्र में विदेशों के साथ संयुक्त तकनीक से काम

छिंदवाड़ा. जिले में अब इजराइल की उच्चतम कृषि तकनीक से संतरे की पैदावार होगी। संतरांचल के कुड्डम में 52 एकड़ के क्षेत्र में एकीकृत बागवानी मिशन के अंतर्गत नीम्बू वर्गीय फसल संतरा का उत्पादन इजराइल के साथ करने के लिए सहमति बनी है। इजराइल के राजनीतिज्ञ और कृषि क्षेत्र के विशेषज्ञों के साथ मंगलवार को हुई एक चर्चा में इस बात पर सहमति बनी है। इसी प्रकार ग्राम खूनाझिर में 10 एकड़ जमीन पर फ्लोरीकल्चर किया जाएगा। इजराइल एम्बेसी के काउंसलर डेनअलफ छिंदवाड़ा आए। यहां उन्होंने एकीकृत बागवानी मिशन के अंतर्गत नीम्बू वर्गीय फसल संतरा और फ्लोरीकल्चर के लिए जगह का अवलोकन किया। काउंसलर डेनअलफ इंटरनेशन डेव्हलपमेंट कार्पोरेशन (मासव) साइंस एंड एग्रीकल्चर के क्षेत्र में एक जाने माने वैज्ञानिक, अर्थशास्त्री, किसान और डिप्लोमेट भी हैं। प्रदेश के उच्च अधिकारियों के साथ बैठक में उन्होंने उद्यानिकी के नए आयाम को विस्तृत रूप में प्रस्तुत करते हुए कहा कि भारत- इजराइल के संयुक्त प्रयासों से जिले में एकीकृत बागवानी मिशन को नई ऊंचाई पर ले जाने के लिए हरसंभव प्रयास किया जाएगा।
इससे क्षेत्र में जहां उद्यानिकी और खाद्य प्रसंस्करण को नई गति मिलेगी, वहीं किसानों द्वारा वैसी तकनीक अपनाकर उद्यानिकी को एक व्यवसाय में परिवर्तित किया जा सकेगा।

जिले में नई शुरुआत
उद्यानिकी फसलों के साथ उनकी खाद्य प्रसंस्करण की विधि को कैसे उन्नत और व्यापक बनाया जाए इसको लेकर जिले में अब विदेशी तकनीक को भी समझने की कोशिश की जा रही है। जिले मं चल रहे एकीकृत बागवानी मिशन को अब इजराइल के कृषि वैज्ञानिकों और वहां की तकनीक के जरिए नई पहचान दिलाई जाएगी। इसी के चलते बुधवार को डेनअलफ ने प्रदेश के आयुक्त उद्यानिकी और खाद्य प्रसंस्करण कवीन्द्र कियावत, जबलपुर समभाग आयुक्त राजेश बहुगुणा के साथ जिले के आला अधिकारियों और कृषि वैज्ञानिकों के साथ सौंसर स्थित रेमण्ड के गेस्ट हाउस में विशेष चर्चा की। एकीकृत बागवानी मिशन पर इजराइली तकनीकी के प्रयोग के डीपीआर पर विस्तार से उन्होंने अधिकारियों और वैज्ञानिकों से जानकारी ली। चर्चा के दौरान डेनअलफ ने उद्यानिकी के क्षेत्र में उनके देश में व स्वयं द्वारा किए गए उन्नत प्रयासों व उनके प्रतिफल के बारे में बताकर छिंदवाड़ा में भी ऐसा ही करने को कहा। डेनअलफ ने अधिकारियों के साथ कुड्डम जाकर वहां की परिस्थितियों का अध्ययन किया और कहा कि सौंसर के कुड्डम में उद्यानिकी के लिए सेंटर ऑफ एक्सीलेंस बनाएंगे। ग्राम जाम में भी उन्होंने संतरा के बगीचे देखे। इस दौरान जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी वरदमूर्ति मिश्रा, कृषि वैज्ञानिक डॉ. टीएल टांडेकर, डॉ.सुरेन्द्र पन्नासे, डॉ. एसडी सावरकर, डॉ.जगदीश बारसकर, उप संचालक उद्यानिकी भोपाल डॉ.पूजा सिंह, एसडीएम हिमांशु चंद्र भी उपस्थित थे।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned