खजरी रेलवे ओवरब्रिज में तकनीकी पेंच, सीआरएस ने बताई कमियां

कमी दूर कर मध्य रेलवे भेजेगा रिपोर्ट, फिर मिलेगा सेफ्टी अप्रूवल

By: mantosh singh

Published: 24 Sep 2021, 12:01 PM IST

मंतोष कुमार सिंह
छिंदवाड़ा. तीन साल से खजरी रेलवे ओवरब्रिज के शीघ्र निर्माण की राह देख रही जनता को अभी और इंतजार करना पड़ेगा। दरअसल मध्य रेलवे द्वारा ओवर ब्रिज पर गार्डर लॉंचिंग की तैयारी पूरी कर ली गई थी। मध्य रेलवे ने इसके लिए कमिश्नर ऑफ रेलवे सेफ्टी (सीआरएस) से सेफ्टी अप्रूवल मांगा, लेकिन सीआरएस ने कुछ कमियां बताते हुए अप्रूवल देने से इनकार कर दिया। तकनीकी समस्या की वजह से रेलवे के हिस्से का कार्य रुका हुआ है। सीआरएस द्वारा बताई गई कमी को दूर करने के लिए मध्य रेलवे की कंस्ट्रक्शन टीम लगी हुई है। कमी दूर होते ही दोबारा रिपोर्ट सीआरएस के पास भेजी जाएगी। सीआरएस संतुष्ट हुए और उन्होंने सेफ्टी अप्रूवल दे दिया तो गार्डर लॉंचिंग की जाएगी। इसके बाद शेष कार्य पूरे किए जाएंगे। बता दें कि मध्य रेलवे और नगर निगम के संयुक्त परियोजना से खजरी रेलवे ओवरब्रिज का निर्माण हो रहा है। जुलाई 2020 में ओवरब्रिज बनकर तैयार हो जाना था, लेकिन रेलवे के हिस्से का काम अभी भी अधूरा है। नगर निगम ने अपने हिस्से का 90 प्रतिशत काम करने का दावा किया है। रेलवे और निगम को 650 मीटर ब्रिज का निर्माण करना था। फिलहाल 615 मीटर ब्रिज का निर्माण हो चुका है। रेलवे के हिस्से का 35 मीटर निर्माण शेष है।

स्वीकृति के बाद लगेगा दो माह का समय
मध्य रेलवे के अधिकारियों की मानें तो सीआरएस ने जो कमियां बताई हैं उसे जल्द ही दूर कर लिया जाएगा। इसके बाद सीआरएस को रिपोर्ट भेजी जाएगी। सीआरएस के सेफ्टी अप्रूवल देने के बाद अधिकतम दो माह में कार्य पूरा हो जाएगा। हालांकि जिस तरह से कार्य की गति है उसे देखकर इस बात की पूरी संभावना है कि फरवरी 2022 से पहले ओवरब्रिज बनकर तैयार नहीं होगा।

रहवासियों को हो रही परेशानी
जिला मुख्यालय की लगभग 25 प्रतिशत आबादी ओवरब्रिज से प्रभावित हो रही है। बड़ी संख्या में लोग यहां से आना-जाना करते हैं। ब्रिज के दोनों तरफ गड्ढे हो गए हैं। गड्ढों की वजह से प्रतिदिन हादसे हो रहे हैं। लाइट की भी पर्याप्त व्यवस्था नहीं है। कुछ दिन पहले एक कार भी निर्माणाधीन ब्रिज के दीवार पर चढ़ गई थी।

दुकानदारों का कारोबार प्रभावित
ब्रिज के किनारे दो दर्जन दुकानें हैं। निर्माण की वजह से रुट डायवर्ट कर दिया गया है। रुट डायवर्ट होने के कारण ग्राहकी कम हो गई है। दुकानदारों का कारोबार प्रभावित हो रहा है।

खजरी ओवरब्रिज परियोजना
ब्रिज निर्माण की शुरुआत- अप्रैल 2019
कब तक होना था पूरा - जुलाई 2020
परियोजना की लागत - 22 करोड़ 50 लाख रुपए
अब तक कुल खर्च- 19 करोड़ रुपए

निगम से देरी नहीं
रेलवे की ओर से उनके हिस्से का 35 मीटर ब्रिज बनाने में देरी की जा रही है। जैसे ही रेलवे अपने हिस्से का ब्रिज बना देगाए निगम अपना बचा हुआ काम भी पूरा कर देगा। निगम की ओर से कोई देरी नहीं है।
ईश्वर सिंह चंदेली, कार्यपालन यंत्री, नगर निगम

बजट की कमी नहीं
गार्डर तैयार है। केवल लॉंचिंग का काम शेष रह गया है। सीआरएस ने कुछ कमियां बताई हैं, जिसे ठीक करके रिपोर्ट जल्द भेजी जाएगी। सीआरएस की स्वीकृति मिलते ही गार्डर लॉंचिंग हो जाएगी। कार्य में बजट की कमी नहीं है।
जीआर सोरटे, आईओडब्ल्यू, कंस्ट्रक्शन, मध्य रेलवे, नागपुर मंडल

mantosh singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned