scriptKnow the loss of the narrow streets | Narrow streets: संकरे होते गली मोहल्लों का जान लें नुकसान | Patrika News

Narrow streets: संकरे होते गली मोहल्लों का जान लें नुकसान

शहर की संकरी होती गलियां और रास्तों पर फैलता अतिक्रमण बड़े हादसों को न्योता दे रहा है। कुछ इमारतें भी ऐसी है जहां समय रहते दमकल से आग नहीं बुझाई जा सकती।

छिंदवाड़ा

Published: May 10, 2022 12:16:06 pm

छिंदवाड़ा. शहर की संकरी होती गलियां और रास्तों पर फैलता अतिक्रमण बड़े हादसों को न्योता दे रहा है। कुछ इमारतें भी ऐसी है जहां समय रहते दमकल से आग नहीं बुझाई जा सकती। इन बातों का आम आदमी से लेकर प्रशासनिक अमला भी नजर अंदाज कर रहा है। हालांकि इसका भुगतमान निकट भविष्य में कभी भी हमें ही भुगतना पड़ सकता है।

Narrow streets: संकरे होते गली मोहल्लों का जान लें नुकसान
Narrow streets: संकरे होते गली मोहल्लों का जान लें नुकसान

शहर में कुछ स्थान ऐसे हैं जहां समय रहते दमकल नहीं पहुंच सकती। इसी तरह चुनिंदा भवनों तक दमकल की टीम पहुंच भी जाए तो आग नहीं बुझा सकती। सघन आबादी और संकरे रास्तों वाले गली मोहल्लों में स्थित मकानों में स्वयं के पास कोई सुरक्षा इंतजाम नहीं है। तकनीकी रूप से जिन भवन में खामियां है वहां संचालित कोचिंग संस्थान से लेकर अन्य व्यापारिक प्रतिष्ठानों के पास भी आग पर काबू पाने के कोई पुख्ता संसाधन नहीं है। आग लगने पर ऐसे भवन के कोचिंग संस्थान या फिर अन्य दुकनों पर से वहां फसे लोगोंको निकालने के वैकल्पिक मार्ग भी नहीं है। ऐसे हालात निर्मित होने पर रेस्क्यू करना भी मुश्किल होता है। इन बातों से आम लोगों से लेकर प्रशासनिक अमला भी अच्छी तरह वाकिफ है, लेकिन सुधार के लिए कोई ठोस कदम नहीं उठाए जाते। शहर की कुछ संकरी गली समय के साथ और अधिक प्रभावित हो रही है, क्योंकि उन पर दिन पर दिन अतिक्रमण बढ़ते जा रहा। फव्वारा चौक से छोटी बाजार तक दमकल का पहुंचना मुश्किल है, जबकि इसके आस-पास की गली मोहल्ले और भी अधिक संकरें है। संचालक दुकान छोड़कर सड़क पर आ रहे हैं, लेकिन वे नहीं जानते की उनकी इस गलती की कीमत किसी दिन दूसरों को चुकानी पड़ सकती है। जोखिम भरी लापरवाही पड़ सकती है भारी

मानसरोवर कॉम्प्लेक्स की किसी दुकान या फिर कोचिंग संस्थान में आग लग जाए तो क्या होगा इसका अंदाजा नहीं लगाया जा सकता। कॉम्प्लेक्स के चारों ओर खड़े दोपहिया और चौपहिया वाहनों की कतार। दमकल पहुंच भी जाए तो आग बुझाना मुश्किल होगा। तकनीकी रूप से कॉम्लैक्स की दुकानों से फसे हुए लोगों को निकालना भी कठिन साबित होगा। सबसे अधिक कोचिंग इसी कॉम्प्लेक्स में संचालित होती है। कितनों पर बार राजस्व और पुलिस के अमले ने मौके पर पहुंचकर जांच भी की। कोचिंग संचालकों को आवश्यक दिशा निर्देश भी दिए किन्तु सुधार नजर नहीं आ रहा है। इंदौर की घनी आबादी वाली बिल्डिंग में शुक्रवार देर रात आग लगाने से बड़ा हादसा हो गया। आग से बुरी तरह झुलसने से 7 लोगों की मौत हो गई।

शहर के इन हिस्सों में नहीं पहुंच सकती दमकल
नगर के गुलाबरा, श्रीवास्तव कॉलोनी, छोटी बाजार, राज टॉकीज क्षेत्र, बैल बाजार गांधीगंज शामिल है। इन क्षेत्रों में आग लगने पर दमकल नहीं पहुंच सकती। आग लगने पर बड़े हादसे से इनकार नहीं किया जा सकता। इसकी सबसे बड़ी वजह है सड़क पर फैलता अतिक्रमण। इसी वर्ष नवम्बर माह में गुलाबरा के एक मकान में आग लगी थी जिसे बुझाने के लिए दमकल पहुंची, लेकिन संकरी गली होने के कारण वह घटना स्थल तक नहीं पहुंच पाई। बड़ी दमकल वापस लौटी और फिर छोटी दमकल की टीम ने घटना स्थल पर पहुंचकर आग पर काबू पाया।

प्रशासन जागता है मगर देरी से

गुजरात राज्य के सूरत शहर में 24 मई को एक कोचिंग संस्थान में अचानक आग लगी थी। इस हादसे में बच्चों की मौत के बाद पूरे प्रदेश के कोचिंग संस्थानों की जांच और छानबीन हुई। आवश्यक दिशा निर्देश भी अधिकारियों की ओर से जारी किए गए किन्तु सुधार कुछ भी नहीं हुआ। हालात आज भी जस के तस बने हुए हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

मौसम अलर्ट: जल्द दस्तक देगा मानसून, राजस्थान के 7 जिलों में होगी बारिशइन 4 राशियों के लोग होते हैं सबसे ज्यादा बुद्धिमान, देखें क्या आपकी राशि भी है इसमें शामिलस्कूलों में तीन दिन की छुट्टी, जानिये क्यों बंद रहेंगे स्कूल, जारी हो गया आदेश1 जुलाई से बदल जाएगा इंदौरी खान-पान का तरीका, जानिये क्यों हो रहा है ये बड़ा बदलावNumerology: इस मूलांक वालों के पास धन की नहीं होती कमी, स्वभाव से होते हैं थोड़े घमंडीबुध जल्द अपनी स्वराशि मिथुन में करेंगे प्रवेश, जानें किन राशि वालों का होगा भाग्योदयमोदी सरकार ने एलपीजी गैस सिलेण्डर पर दिया चुपके से तगड़ा झटकाजयपुर में रात 8 बजते ही घर में आ जाते है 40-50 सांप, कमरे में दुबक जाता है परिवार

बड़ी खबरें

Maharashtra Political Crisis: खतरे में MVA सरकार! समर्थन वापस लेने की तैयारी में शिंदे खेमा, राज्यपाल से जल्द करेंगे संपर्क?Maharashtra Political Crisis: एकनाथ शिंदे की याचिका पर SC ने डिप्टी स्पीकर, महाराष्ट्र पुलिस और केंद्र को भेजा नोटिस, 5 दिन के भीतर जवाब मांगाMaharashtra Political Crisis: सुप्रीम कोर्ट से शिंदे खेमे को मिली राहत, अब 12 जुलाई तक दे सकते है डिप्टी स्पीकर के अयोग्यता नोटिस का जवाब"BJP से डर रही", तीस्ता की गिरफ़्तारी पर पिनाराई विजयन ने कांग्रेस की चुप्पी पर साधा निशानाअंबानी परिवार की सुरक्षा को लेकर सुप्रीम कोर्ट कल करेगा सुनवाई, जानिए क्या है पूरा मामलाMumbai News Live Updates: सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर एकनाथ शिंदे ने कहा- यह बालासाहेब के हिंदुत्व और आनंद दिघे के विचारों की जीत हैMaharashtra Political Crisis: शिंदे खेमा काफी ताकतवर, उद्धव ठाकरे के लिए मुश्किल होगा दोबारा शिवसेना को खड़ा करनासचिन पायलट बोले-गहलोत मेरे पितातुल्य, उनकी बातों को अदरवाइज नहीं लेता
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.