scriptKusmeli Mandi: आचार संहिता समाप्त होने के बाद विकास कार्य अधर में | Patrika News
छिंदवाड़ा

Kusmeli Mandi: आचार संहिता समाप्त होने के बाद विकास कार्य अधर में

-कुसमेली मंडी को विकास कार्यों के लिए बोर्ड की हरी झंडी का इंतजार

छिंदवाड़ाJun 27, 2024 / 05:33 pm

prabha shankar

Kusmeli Mandi is waiting for the green signal from the board for development work

Kusmeli Mandi is waiting for the green signal from the board for development work

कृषि उपज मंडी कुसमेली एवं गुरैया थोक फल एवं सब्जी मंडी में नई व्यवस्थाओं के लिए नए कार्यों को करने की जरूरत है। इसके लिए कुसमेली मंडी के इंजीनियरों ने लोकल स्तर पर आचार संहिता के दौरान ही समस्त प्रक्रिया पूरी कर ली थी, ताकि आचार संहिता के हटने के तत्काल बाद मंडी बोर्ड से स्वीकृति मिल जाए और काम शुरू हो जाए, लेकिन अब 20 दिन बीत चुके हैं। कुसमेली मंडी की न तो बाउंड्रीवॉल का काम शुरू हो सका और न ही गुरैया थोक सब्जी मंडी में पांच ट्रांसफार्मर लग सके हैं। कुसमेली मंडी में चोरी की घटनाओं की पुनरावृत्ति रोकने के लिए बाउंड्रीवॉल एवं गुरैया मंडी में सब्जी व्यापारियों के लिए ट्रांसफार्मर की जरूरत है। कुसमेली मंडी उपयंत्री संदीप बोरकर ने बताया कि स्थानीय स्तर पर समस्त कार्रवाई पूरी करके आचार संहिता के बाद ही भेज दिया गया था। उम्मीद थी कि सात दिनों में कार्यों के लिए अनुमति मिल जाएगी, लेकिन वहां से अभी अनुमति लंबित है।

800 मीटर सुरक्षा घेरा जरूरी

कुसमेली कृषि उपज मंडी में 800 मीटर से अधिक बाउंड्रीवॉल की जरूरत है। पहाड़ी एवं खाई वाली संरचना होने के कारण 700 मीटर बाउंड्रीवॉल तो कंक्रीट की बन सकती है, लेकिन 100 मीटर स्थान को कंटीले तारों से कवर्ड किया जाना है। लगभग 50 लाख रुपए की लागत से 700 मीटर बाउंड्रीवॉल एवं कंटीले तारों का प्रस्ताव भोपाल मंडी बोर्ड भेजा गया है। उल्लेखनीय है कि पहले से करीब 900 मीटर बाउंड्रीवॉल बनी हुई है।

150 दुकानों के लिए पांच नए ट्रांसफार्मर

गुरैया थोक सब्जी मंडी में लगे हुए पुराने ट्रांसफार्मर में काफी लोड है, जिससे विद्युत वितरण कंपनी उससे नए नियमित कनेक्शन नहीं दे रही है। बिजली कंपनी ने मंडी से 200 केवीए के पांच नए ट्रांसफार्मर लगाने के लिए कहा था, जिसकी प्रक्रिया करीब एक साल से चल रही है। ट्रांसफार्मर लगाने के लिए भी करीब 50 लाख रुपए का खर्च होना है। इसके लिए कुसमेली मंडी प्रबंधन ने मंडी बोर्ड को अनुमति के लिए प्रस्ताव भेजा है।

गुरैया मंडी की पार्किंग को भी करना है व्यवस्थित

एक-दो हेक्टेयर में सिमटी गुरैया थोक सब्जी मंडी अब करीब पांच एकड़ में फैल चुकी है। मंडी ने 151 भूखंडों का आवंटन भी कर दिया है। पार्किंग के लिए आरक्षित भूमि से अतिक्रमण भी हटा दिया गया है। पार्किंग के लिए सुरक्षित इस भूखंड को पार्किंग एवं शौचालय, यूरिनल आदि के लिए व्यवस्थित करने के लिए भी निर्माण कार्यों को भी प्रस्ताव की जरूरत है। गुरैया मंडी प्रभारी शिवदयाल अहिरवार ने बताया कि मंडी का दायरा बढ़ चुका है, इसलिए अब मंडी में कई जगह शौचालयों एवं यूरिनल की जरूरत भी है। साथ ही सब्जी मंडी कार्यालय को भी निर्माण की जरूरत है।

Hindi News/ Chhindwara / Kusmeli Mandi: आचार संहिता समाप्त होने के बाद विकास कार्य अधर में

ट्रेंडिंग वीडियो