एलइडी से रोशन नहीं हो पाए गली-मोहल्ले

अनलॉक में एजेंसी ने काम शुरू किया पर धीमी गति से नहीं दिख रहे परिणाम

By: mantosh singh

Updated: 14 Jun 2021, 12:27 PM IST

छिंदवाड़ा. झमाझम बारिश के साथ मानसून का आगाज हो गया, लेकिन शहर एलइडी से रोशन नहीं हो पाया। ऊर्जा दक्ष एलइडी परियोजना की धीमी गति के चलते अब चार माह का समय आम आदमी को कहीं अंधेरे में तो कहीं पुरानी लाइट व्यवस्था में ही गुजारना होगा। शहर में सोडियम लैम्प समेत अन्य पुराने लाइट बदलकर एलइडी लाइट लगाने की इस परियोजना का भूमिपूजन 25 दिसम्बर 2020 को किया गया था। करीब 42.93 करोड़ रुपए में नगर निगम समेत छिंदवाड़ा जिले के 17 तथा नरसिंहपुर जिले के नौ नगरीय निकाय को शामिल किया गया है।

इस प्रोजेक्ट को दिल्ली की कम्पनी नींव को दिया गया है और इसकी मॉनिटरिंग के लिए स्वतंत्र इंजीनियर की नियुक्ति भी की गई है। इस परियोजना की औपचारिकता पूर्ण होने पर अप्रैल में एलइडी लाइट का काम शुरू होना था, लेकिन कफ्र्यू के चलते यह टल गया। अभी एक जून से अनलॉक होते ही एजेंसी के कर्मचारियों ने काम शुरू किया। इसकी गति बारिश के चलते धीमी बताई गई है। निगम कर्मचारी भी स्वीकार कर रहे हैं कि इस परियोजना के लेट शुरू होने पर आम जनमानस को बारिश में राहत नहीं मिल पाएगी बल्कि इसके लिए कुछ माह का इंतजार करना पड़ेगा।


क्या है एलइडी प्रोजेक्ट
इस परियोजना में यह है कि छिंदवाड़ा शहर में इस समय विद्युत पोल पर पुराने लाइट की संख्या 15292 है जो प्रोजेक्ट के लागू होने के बाद 17405 हो जाएगी। अभी निगम की बिजली खपत 49 लाख यूनिट है। एलइडी लग जाने के बाद खपत घटकर 23 लाख यूनिट हो जाएगी। निगम का सालाना औसत खर्च 2.81 करोड़ के स्थान पर बिजली बिल केवल 1.29 करोड़ रुपए आएगा। इस प्रोजेक्ट पुराने परम्परागत लाइट जैसे सीएफ एल, सोडियम वैपर लैम्प, ट्यूबलाइट पूरी तरह बदल जाएंगे।

एलइडी लाइट लगाने का काम एजेंसी ने कुछ दिन पहले शुरू कर दिया है। शहरी और ग्रामीण इलाकों में समान रूप से एलइडी लाइट लगाई जाएगी। बारिश में जनमानस को राहत देने के पूरे प्रयास होंगे।
- हिमांशु सिंह, आयुक्त नगर निगम

mantosh singh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned