LED Light Scam; आचार संहिता के पहले की करतूत अब हो रही उजागर

LED Light Scam; आचार संहिता के पहले की करतूत अब हो रही उजागर
LED Light Scam in chhindwara

Prabha Shankar Giri | Publish: Feb, 03 2019 08:00:00 AM (IST) Chhindwara, Chhindwara, Madhya Pradesh, India

पंचायतों में आखिर कौन ठेकेदार लगाकर चला गया फ्यूज एलइडी

छिंदवाड़ा. विधानसभा चुनाव की आचार संहिता लगने से पहले अक्टूबर की शुरुआत में पंचायतों में धड़ाधड़ एलइडी लाइट लग गए और जल्द ही फ्यूज भी हो गए। किसने लगवाया इसका पता आज तक न पंचायत बता सकी और न ही पूर्व क्षेत्र विद्युत वितरण कम्पनी के अधिकारी। पंचायतों में कुछ लोग कागज लेकर वेरीफिकेशन करवाने पहुंचे थे, लेकिन सरपंच-सचिवों ने ठेका एजेंसी की जानकारी न होने पर इनकार कर दिया। इससे ठेका एजेंसी का रहस्य अभी भी बना हुआ है।
जनपद पंचायत छिंदवाड़ा के अधीन दस गांवों में ये एलइडी लगाए गए थे। उसके बाद जनपद अधिकारी-कर्मचारियों ने इस लाइट का वेरीफिकेशन किया तो पाया कि घाट परासिया में 26, कोटलबर्री 17, भानादेही 32, चारगांव में एक भी नहीं, भैंसादण्ड में 24, कुहिया 22, कपरवाड़ी 34, मेघासिवनी 18, जमुनिया 32 और नेर में 35 एलइडी लगाए पाए गए। कहीं पूरा गांव का नाम लिखा, लेकिन लाइट एक भी नहीं लगाया। बताया जाता है कि ग्रामीणों ने इसके बारे में पूछताछ भी की, लेकिन लगाने वाले कर्मचारी ठेकेदार का नाम बताने के बजाय भाग गए। पूरे जिले में एलइडी के नाम पर यही खेल चला। साफ था कि प्रदेश स्तर पर किसी ठेकेदार को इसका काम दिया गया। फिर जब बिल लगाने की बारी आई तो वेरीफिकेशन का पत्र जारी कर दिया गया। मैदानी स्तर पर इसकी जानकारी लेने पर यह पाया गया कि ये एलइडी केवल जनपद पंचायत छिंदवाड़ा ही नहीं बल्कि पूरे जिले में दो हजार की संख्या में लगाई गई हैं। फिलहाल ये लाइट कहीं-कहीं फ्यूज पड़े हुए हैं।

बार-बार आए लोग, नहीं किया वेरीफिकेशन
ग्राम पंचायत जमुनिया की सरपंच किरण देवेंद्र साहू ने बताया कि उनके गांव में कहीं लाइट लगाए गए तो कहीं नहीं लगाए। कहीं ये लाइट फ्यूज हो गए। कुछ लोग पंचायत में ये लाइट छोडकऱ चले गए और वेरिफिकेशन के लिए भी आए। ठेका एजेंसी का नाम नहीं बताया। किसने लगाए यह अभी तक पता नहीं चल पाया है। यही हाल दूसरी पंचायतों का भी बताया गया है।

जनपद और बिजली कम्पनी का भी इनकार
जनपद पंचायत सीइओ कंचन वास्कले का कहना है कि पंचायतों में एलइडी लाइट भोपाल के किसी ठेकेदार ने लगवाई है। इसका नाम-पता सामने नहीं आया है। इसका वेरीफिकेशन कर रिपोर्ट पहले ही भेजी जा चुकी है। पूर्व क्षेत्र विद्युत वितरण कम्पनी के कार्यपालन अभियंता ग्रामीण का कहना है कि उनके सम्पर्क में एलइडी लाइट लगाने वाली एजेंसी अब तक सामने नहीं आ सकी है।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned