तीन बच्चों को अपना शिकार बना चुका तेंदुआ अब मवेशियों को बना रहा शिकार

sanjay daldale

Publish: Jan, 13 2018 04:43:43 PM (IST)

Chhindwara, Madhya Pradesh, India
तीन बच्चों को अपना शिकार बना चुका तेंदुआ अब मवेशियों को बना रहा शिकार

आदमखोर तेंदुआ ने एक बकरी को घटना स्थल पर खा गया वहीं दूसरी बकरी को खींचते हुए साथ ले गया था।

जुन्नारदेव . आदिवासी विकासखंड मुख्यालय से 7 किमी दूर स्थित ग्राम बेलखेड़ी में तेंदुए के हमलावर रुख की दहशत से एक बार फिर ग्रामीणों में कोहराम मच गया, बीती रात को तेंदुए ने दो बकरियों का शिकार कर लिया गया।
वन विभाग के स्थानीय अमले ने घटनास्थल पर पहुंचकर पंचनामा कर अपनी औपचारिकता पूरी करते हुए ग्रामीणों को सावधान रहने की हिदायत दी गई है।
मिली जानकारी के अनुसार पदम पठार की तलहटी में ग्राम बेलखेड़ी में शुक्रवार को तड़के आदमखोर तेंदुए ने गोपाल परतेती के कोठे में बंधी दो बकरियों का शिकार कर लिया । आदमखोर तेंदुआ ने एक बकरी को घटना स्थल पर खा गया वहीं दूसरी बकरी को खींचते हुए साथ ले गया था। ग्रामीणों ने वन विभाग को सूचना दिए जाने पर नाकेदार संतकुमार चांदपुरिया के द्वारा पंचनामा की कार्रवाई की गई। इसी अवसर पर वन विभाग के अधिकारियों ने ग्रामवासियों को तेंदुए के आक्रामक रुख से सावधान रहने की हिदायत भी दे दी गई है। ग्राम बेलखेड़ी में हमले के बाद अब जुन्नारदेव नगरीय इलाके में भी लोगों में दहशत दिखाई दे रही है। गौरतलब है कि बेलखेड़ी गांव जुन्नारदेव नगर के समीप स्थित पहली पायरी धार्मिक स्थल के पदम पठार पर्वत श्रंखला की तलहटी में स्थित है। बीते सप्ताह में तामिया-जुन्नारदेव के रहवासी क्षेत्र में तेंदुआ के इस आतंक से भयभीत रहा।

वन विभाग इस दिशा में कोई बड़ी कार्रवाई भी नहीं कर पाया है। बेलखेड़ी के निवासी दिनेश इवनाती का वन विभाग से कहना है कि वह इस तेंदुआ को शीघ्र ही धरपकडऩे के लिए विशेष रूप से अभियान चलाए ताकि आम जनता को इस खतरे से जल्द ही मुक्ति मिल सके।

मृत मवेशी का पोस्टमार्टम
खैरवानी/हनोतिया. विकासखंड अंतर्गत ग्राम पंचायत कोहन्यिा रैय्यत में बीते दिवस बाघ द्वारा एक बछड़े को अपना शि कार बना लिये जाने के बाद गांव में दहश का माहौल है। बाघ की सूचना मिलते ही वन विभाग की टीम भी सक्रिय हो गई है और रेस्क्यू ऑपरेशन जारी कर दिया गया है। वन विभाग की टीम ने गुरूवार को अलसुबह से ही बाघ की लोकेशन पता करने के लिए रेस्क्यू चलाया जिसमें बाघ के पग चिन्हों को थथोलती वन विभाग की टीम नजर आई। वहीं इस क्षेत्र में बाघ होने की पुष्टि भी की गई। गौरतलब हो कि विगत रात्रि ग्राम के किशोरी बन्देवार के मवेशी को बाघ ने हमला कर मार दिया था जिसके बाद गांव में कई ग्रामीणों द्वारा बाघ को देखने की बात सामने आई थी जिसके बाद वन विभाग का अमला सचेत हुआ और क्षेत्र में लगातार गश्त करने लगा। बीते दिवस मरे मवेशी का पोस्टमार्टम पशु चिकित्सक संजय इवनाती ने किया।

डाउनलोड करें पत्रिका मोबाइल Android App: https://goo.gl/jVBuzO | iOS App : https://goo.gl/Fh6jyB

Ad Block is Banned