Lockdown: नई सम्पत्ति गाइडलाइन पर संशय, यह है बड़ी वजह

Lockdown: रुक सकता है 18 स्थलों की गाइडलाइन का फैसला , वित्तीय वर्ष के अंतिम दिनों में अटका काम, राजस्व लक्ष्य भी पूरा नहीं हो पाया

छिंदवाड़ा/ कोरोना वायरस के चलते लॉकडाउन से चालू वित्त वर्ष 2019-20 का पंजीयन राजस्व लक्ष्य प्रभावित हो गया है तो वहीं शहर के 18 स्थलों की नई सम्पत्ति गाइडलाइन के एक अप्रैल से लागू होने पर संशय बन गया है। विभागीय अधिकारी लॉकडाउन समाप्त होने तक इंतजार करने की बात कह रहे हैं।
जानकारी के अनुसार राज्य शासन द्वारा छिंदवाड़ा जिले को राजस्व का वित्तीय लक्ष्य 128 करोड़ रुपए दिया गया था। जनता कफ्र्यू से पहले तक स्टाम्प शुल्क ड्यूटी से करीब 95 करोड़ रुपए तक अर्जित किया जा चुका है। विभागीय अधिकारी दस दिन में इस राशि को बढ़ा सकते थे, लेकिन प्रशासन द्वारा लॉकडाउन किए जाने से राजस्व जहां का तहां रुक गया है। यह केवल छिंदवाड़ा की नहीं बल्कि पूरे प्रदेश की स्थिति है। आगामी 31 मार्च को जब लॉकडाउन समाप्त होगा, तब आने वाले आदेश पर अमल किया जाएगा।

पंजीयन कार्य 31 तक स्थगित
वै श्विक महामारी कोरोना के परिपेक्ष्य में विभाग द्वारा पंजीयन सम्बंधी कार्य 31 मार्च तक के लिए स्थगित किए जाने का निर्णय लिया गया है। विभागीय जानकारी के अनुसार जिन पक्षकारों द्वारा 31 मार्च रात्रि 12 बजे से पहले दस्तावेज तैयार कर भुगतान कर दिया जाएगा, उन दस्तावेजों के पंजीयन अप्रैल माह में होने के पश्चात भी उन पर वर्ष 2019-20 की गाइडलाइन ही लागू होगी। इसकी जानकारी विभाग द्वारा सेवा प्रदाताओं को देने के लिए कहा गया है।

भोपाल पहुंचाया गया 18 लोकेशन का प्रस्ताव: जिला मूल्यांकन समिति द्वारा भोपाल में केंद्रीय मूल्यांकन समिति को प्रस्ताव भेजा गया है। वित्तीय वर्ष 2020-21 के सम्पत्ति गाइड लाइन प्रस्ताव में महत्वपूर्ण यह है कि छिंदवाड़ा शहर की 18 लोकेशन को सामान्य स्थल से अलग कर उसकी गाइडलाइन अलग निर्धारित करना है। शेष गाइडलाइन मूल्य यथावत रखे गए हैं। केंद्रीय मूल्यांकन समिति इस पर निर्णय टाल सकती है।

Show More
prabha shankar Desk
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned