Lockdown: मंडियों में जाम सब्जियां, मवेशियों के छोड़ रहे क्विंटलों सब्जियां

Lockdown: जिले से बाहर परिवहन न होने से बने हालात

By: prabha shankar

Published: 27 Mar 2020, 04:44 PM IST

छिंदवाड़ा/ गुरैया सब्जी मंडी में गुरुवार को व्यापारियों की दुकानों के सामने गोभी, धनिया, फर्रास के बोरे भरे पड़े थे। पूछने पर पता चला कि ये पशुओं के खाने के लिए छोड़
दिए गए हैं। आज यदि पशुओं ने इन्हें नहीं खाया तो शुक्रवार को ये सब्जियां गोशाला भेज दी जाएंगी। गुरुवार दोपहर को भी एक ट्रॉली भरकर गोभी गोशाला पहुंचाई गई।
दरअसल, कोरोना के लिए टोटल लॉकडाउन के कारण परिवहन पूरी तरह से ठप है। जिले से सब्जियां दूसरे प्रदेशों में छोड़ दें प्रदेश के दूसरे जिलों में नहीं जा पा रहीं हंै। हालात ये हैं व्यापारियों ने जो सब्जियां खरीद ली हैं, वे अब खराब होने की स्थिति में है।
लिहाजा व्यापारियों ने इन सब्जियों को अपनी दुकानों के बाहर मवेशियों के लिए रख दिया है। मंडी व्यापारियों का कहना है कि प्रदेश सरकार यदि प्रदेश के भीतर ही सब्जियों के परिवहन की इजाजत दे दे तो अच्छा रहेगा।

२५ से ३० गाडि़यां रोज जाती हैं बाहर
जिले में होने वाली कुछ सब्जियां अपने उत्पादन के ७० प्रतिशत तक प्रदेश के दूसरे जिलों और राज्यों में जाती हैं। महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़, उत्तर प्रदेश के साथ दक्षिण के भी कई राज्यों तक इनका परिवहन होता है। मध्यप्रदेश के अंदर की ही बात करें तो यहां की फूल गोभी, आलू, लहसुन, बींस, टमाटर, चुकंदर सबसे ज्यादा दूसरे जिलों में जाते हैं। रोज २५-३० छोटे बड़े वाहन मंडी से रवाना होते हैं।


गोभी-चुकंदर के बुरे हाल:
पिछले चार दिनों से जिले से बाहर गाडि़यों का जाना प्रतिबंधित है। इससे सब्जियों का परिवहन भी नहीं हो पा रहा है। सबसे ज्यादा बुरे हाल गोभी और चुकंदर के हैं। किसान इन्हें अपनी दुकानों के सामने छोडक़र जा रहे हैं। लहसुन अभी-अभी खेत से निकला है और गीला है। जल्द परिवहन हो जाता तो ठीक था। अब व्यापारी अपनी दुकानों में पंखे चलाकर लहसुन की बोरियों को सुखा रहे हैं, ताकि वह गीला होने और बोरों में भरा होने के कारण सड़ न जाए।


किसानों को भी नुकसान
व्यापारियों ने तो फिलहाल किसानों से सब्जियां खरीदना बंद कर दिया है जो बाहर वे भेजते थे। एेसे में किसानों के हाल भी बुरे हैं। वे यहां सब्जियां ला रहे हंै। व्यापारी नहीं खरीद रहे तो औने पौने दामों में बेच रहे हैं या फिर यहीं छोडक़र जा रहे हैं। किसानों को भी खासा नुकसान उठाना पड़ रहा है। व्यापारियों ने प्रदेश में ही परिवहन की मांग की है। गुरैया मंडी व्यापारी संघ के अध्यक्ष संदीप पटेल, रोहित बागड़ी, मनोज आहूजा, गयाप्रसाद, रशीद भाई, राजेंद्र सूर्यवंशी, चंचलेश सूर्यवंशी, सतीश कुशवाह आदि व्यापारियों ने कहा है कि इस संबंध में मंडी प्रशासक और एसडीएम अतुल सिंह से भी निवेदन किया गया है। मंडी सचिव से भी व्यापारियों ने परमिशन दिलाने की बात कही है, ताकि दूसरी जगहों पर सब्जियां पहुंचाई जा सकें और किसान तथा व्यापारियों का भी घाटा न हो।

Show More
prabha shankar
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned