कोरोना टेस्टिंग के लिए करना पड़ रहा लम्बा सफर, जानें वजह

अब तक नहीं आई आरटी-पीसीआर मशीन

By: Dinesh Sahu

Updated: 23 May 2020, 01:23 PM IST

छिंदवाड़ा/ कोविड-19 टेस्टिंग के लिए फिलहाल सुविधा की शुरुआत छिंदवाड़ा इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेस में नहीं हो सकी है। इसकी वजह से छिंदवाड़ा समेत आसपास के जिलों के कोरोना संदिग्धों के सेम्पल जांच के लिए आइसीएमआर लैब जबलपुर भेज जा रहे है, जिससे समय और पैसों का खर्च हो रहा है। विभागीय सूचना के अनुसार कोविड-19 टेस्ट के लिए प्रमुख मशीन आरटी-पीसीआर अब तक उपलब्ध नहीं हो पाई है, जिसकी वजह से उक्त सुविधा ठंडे बस्ते है।

- कोविड-19 टेस्टिंग के लिए जबलपुर भेजने पड़ रहे सेम्पल

हालांकि मेडिकल कॉलेज के ग्राउंड फ्लोर में 80 प्रतिशत लैब तैयार होने का दावा कॉलेज प्रशासन कर रहा है, जिसमें सामान्य उपयोग में लाए जाने वाले उपकरण, फ्रीज, स्टोरेज सिस्टम आदि की उपलब्धता हो गई है।

उल्लेखनीय है कि 26 अप्रैल 2020 को संभागीय आयुक्त महेशचंद्र चौधरी छिंदवाड़ा प्रवास पर पहुंचे थे। इस दौरान उन्होंने मेडिकल कॉलेज तथा जिला अस्पताल का औचक निरीक्षण किया था। साथ ही दो सप्ताह में कोविड-19 की टेस्टिंग छिंदवाड़ा में शुरू करने का लक्ष्य दिया था।


प्रशिक्षण प्राप्त कर चुका अमला -


माइक्रोबायोलॉजी विभाग के प्रमुख समेत दो फैकल्टी तथा तीन टेक्निशियन जबलपुर आइसीएमआर से कोविड-19 टेस्टिंग का प्रशिक्षण प्राप्त कर चुके है। साथ ही प्रशिक्षित अमले ने जिला अस्पताल समेत जिले के चार कलेक्शन सेंटरों के टेक्निशियनों को भी प्रशिक्षण दे दिया है।


प्रकिया जारी, मशीन का इंतजार -


कोविड-19 टेस्टिंग के मुख्य मशीन आरटी-पीसीआर की उपलब्धता फिलहाल नहीं हो पाई है, इस वजह से लैब शुरू होने में विलंब हो रहा है। हालांकि मशीन के आने की प्रक्रिया जारी है, जैसे ही आएती लैब शुरू हो पाएगी।


- डॉ. जीबी रामटेके, डीन सिम्स

COVID-19
Show More
Dinesh Sahu
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned