हर साल बढ़ रही है मनोकामना कलशों की संख्या

Sanjay Kumar Dandale

Publish: Oct, 13 2018 05:19:11 PM (IST)

Chhindwara, Madhya Pradesh, India

यहां जो आता है वह खाली हाथ नहीं जाता। मातारानी सबकी मनोकामना पूरी करती है। यही वजह है कि माता के भक्तों यहां तांता लगा रहता है। पंकज टॉकीज के समीप पास, परासिया रोड स्थित षष्ठी माता मंदिर करीब 150 वर्ष पुराना है और लोगों की आस्था का केन्द्र है। षष्ठी माता सबकी मनोकामना पूरी करती है।
छिन्‍दवाडा. चैत्र और अश्विन नवरात्र में बड़ी संख्या में भक्त यहां पहुंचते है। इस बार भी अश्विन नवरात्र में यहां बड़ी संख्या में श्रद्धालु माता के दर्शन करने पहुंच रही है। सुबह चल चढ़ाने से दिन की शुरुआत होती है तो देर रात तक माता के भक्तों यहां आना लगा रहता है। महिलाएं यहां ओली भरती है। कहते है मातारानी के दरबार आने वाला भक्त खाली हाथ नहीं जाता फिर चाहे वो संतान प्राप्ति हो या फिर कोई और मनोकामनाएं सभी यहां पूर्ण होती है।
माता के दरबार में जगमगा रहे 1016 मनोकामनाए कलश
मातारानी की सेवा में लगे पंडि़त गंगाप्रसाद द्विवेदी का कहना है कि यहां नवरात्र में मनोकामना कलश रखने का सिलसिला ७ कलशों से शुरू हुआ था जो साल-दर-साल बढ़ते जा रहा है इस बार अश्विन नवरात्र में माता के दरबार में 1016 मनोकामना कलश रखे गए है। माता की ख्याति जिले ही वरण देश के कोने-कोने में है। आसपास के जिले सिवनी, बैतूल, नागपुर सहित दिल्ली, मुम्बई और कलकत्ता से भी माता भक्त यहां मनाकामना रखते है।
लोग यहां संतान प्राप्ति, नौकरी, शादी विवाह, व्यवसाय आदि की मनोकामना के लिए मातारानी की आराधना करते है समिति द्वारा भी प्रत्येक मंगलवार को माता के भक्तों के लिए भंडारे का आयोजन भी करती है।

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned