आखिर क्यो बोले बच्चे कि हम नहीं जाएंगे स्कूल, देखें वीडियो

Rajendra Sharma

Publish: Sep, 12 2018 11:44:15 AM (IST) | Updated: Sep, 12 2018 11:48:17 AM (IST)

Chhindwara, Madhya Pradesh, India

छिंदवाड़ा/अमरवाड़ा. नगर के मॉडल स्कूल के बच्चों ने मंगलवार को अनुविभागीय अधिकारी, जिला शिक्षा अधिकारी , विकास खंड शिक्षा अधिकारी के नाम ज्ञापन सौंपा और जल्द से जल्द स्कूल में शिक्षक की नियुक्ति की मांग की है।
बताया जाता है कि मॉडल स्कूल में केमिस्ट्री, गणित सहित अन्य विषयों के शिक्षकों की आवश्यकता है। शिक्षक नहीं होने के कारण स्कूलों में पढ़ाई शुरू नहीं हो पाई है वहीं तिमाही परीक्षा प्रारंभ हो गई है जिसका प्रश्न पत्र देख कर ही बच्चे चकरा गए। छात्र-छात्राएं एक घंटे में ही पेपर देकर निकल गए। बच्चों ने बताया जब स्कूल में पढ़ाई ही नहीं हो पाई तो प्रश्नपत्र कैसे हल कर सकते है। अगर जल्द ही स्कूलों में शिक्षकों की नियुक्ति नहीं की गई तो हम भी स्कूल आना बंद कर देंगे। मॉडल स्कूल में पूर्व में पदस्थ अतिथि शिक्षकों नियुक्ति जल्द की जाए।
गौरतलब है कि विधानसभा के बहुत से स्कूलों में ऑफलाइन ही अतिथि शिक्षक भर्ती कर पढ़ाई होती थी चाहे वह प्राथमिक, माध्यमिक स्कूल हो या फिर हाई स्कूल या हाई सेकंडरी स्कूल लेकिन अब अतिथि शिक्षकों की भर्ती भी ऑनलाइन की जाने लगी है।
तिमाही परीक्षा 10 सितंबर से प्रारंभ हो चुकी है लेकिन अभी तक स्कूलों में पढ़ाई शुरू नहीं हो पाई है। इसका सीधा प्रभाव बच्चों पर पड़ रहा है। छात्रों ने मांग की है कि स्कूलों में पूर्व में पदस्थ अतिथि शिक्षकों की नियुक्ति जल्द करने की मांग की है।

पोर्टल पर है गलत जानकारी

अतिथि शिक्षकों की भर्ती एजुकेशन पोर्टल के माध्यम से होना है और पोर्टल के माध्यम से जिस स्कूल में जिस विषय का पद खाली है उसी में भर्ती होना है। लेकिन पोर्टल में गलत जानकारी अपडेट की गई है। अमरवाड़ा की कन्या शाला में कॉमर्स संकाय बंद है लेकिन पोर्टल में उसकी वैकेंसी दिखा रही है। ठीक इसी प्रकार बहुत से स्कूलों में जो पद खाली है उसकी वैकेंसी नहीं दिख रही है और जिस स्कूलों में जो विषय नहीं है उसकी पद दिख रहे हैं जिसको लेकर भी अतिथि शिक्षक और प्राचार्य में संशय बरकरार है। विद्यार्थियों ने मांग की है कि सभी स्कूलों में शिक्षा व्यवस्था अध्यापन कार्य को संभाले हुए अतिथि शिक्षकों की नियुक्ति उसी स्कूल में हो जिस स्कूल में वह पूर्व में अध्यापन कार्य कराते थे उनके नहीं रहने से स्कूलों में अध्यापन कार्य डगमगा गया है।

व्यवस्था सुधारने उच्च अधिकारी और जनप्रतिनिधि दें ध्यान

स्कूलों में अतिथि शिक्षक की भर्ती को लेकर कलेक्टर और शिक्षा विभाग के उच्च अधिकारी ऑफलाइन भर्ती कराकर जल्द से जल्द स्कूलों में पूर्व पदस्थ अतिथि शिक्षकों की नियुक्ति कर अध्यापन कार्य प्रारंभ कराएं ताकि स्कूलों की शिक्षा व्यवस्था में सुधार हो सके। वर्तमान में तिमाही परीक्षाएं चल रही है लेकिन कई विषयों की पढ़ाई तक शुरू नहीं हो पाई है। शासन-शासन के फैसले के कारण ऑफलाइन भर्ती भी नहीं हो सकी है। पालकों का कहना है स्कूलों में पढ़ाई नहीं होने से छात्र-छात्राएं भी परेशान हैं। शिक्षक नहीं होने के कारण पढ़ाई व्यवस्था ठप हो चुकी है। स्कूलों में पढ़ाई नहीं होने से छात्रों का भविष्य भी अंधकार में जा रहा हैं।

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned