एक साल बाद भी शुरू नहीं हुई खदान

एक साल बाद भी शुरू नहीं हुई खदान
एक साल बाद भी शुरू नहीं हुई खदान

SACHIN NARNAWRE | Updated: 21 Sep 2019, 05:00:58 PM (IST) Chhindwara, Chhindwara, Madhya Pradesh, India

कोयला मंत्री और वेकोलि सीएमडी की घोषणा अनुसार पेंच कन्हान में एक भी कोयला खदाने निर्धारित तिथियों में नहीं खुल पाई।

परासिया. कोयला मंत्री और वेकोलि सीएमडी की घोषणा अनुसार पेंच कन्हान में एक भी कोयला खदाने निर्धारित तिथियों में नहीं खुल पाई। कोयलांचल की महत्वपूर्ण नारायणी कोयला परियोजना पर काम शुरू नहीं हो पाया जिसे सितंबर में प्रांरभ करने की बात कही गई थी।
गौरतलब है कि 21 सिंतबर 2018 को जनआशीर्वाद यात्रा के दौरान परासिया बाजार में आयोजित जनसभा में तत्कालीन मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की उपस्थिति में कोयला मंत्री पीयूष गोयल ने दावे के साथ जिले में 1400 करोड़ के निवेश से चार नई कोयला खदानों के खुलने की समयवार घोषणा करते हुए कहा था कि इन खदानों से प्रतिवर्ष लगभग 59 लाख टन कोयला का उत्पादन होगा। जिसमें से प्रस्तावित एक भी खदान नहीं खोली गई, कन्हान की नारायणी खदान को सितंबर 2019 में खुलने की बात सार्वजनिक मंच से सीएमडी वेकोलि सहित उच्च अधिकारियो की उपस्थिति में की गई थी। सितंबर माह बीतने में चंद दिन शेष रह गए है और अभी तक खदान खोलने का कार्य शुरू नहीं हो पाया। हालांकि कोयलांचल में खदानों का शुरू होना और बंद होना हमेशा राजनीतिक मुददा रहा है। वर्तमान परिस्थितियों में कोयलांचल में नई खदानें अत्यंत आवश्यक हो गई है पुरानी खदानो से उत्पादन मंहगा पड़ रहा है और कई स्थानो पर कामगारों को बिना काम के वेतन देना पड़ रहा है।
नई खदानों की तिथिवार हुई थी घोषणा
कोयला मंत्री पीयूष गोयल ने पिछले वर्ष 21 सितंबर को सभा में कहा था कि पेंच कन्हान एवं पाथाखेड़ा क्षेत्र में 6 नई खदान खोली जाएगी। कोयला मंत्री ने खदान खोलने को लेकर समय सीमा भी बताई थी। जिसमें शारदा परियोजना को खोलने के लिए दिसंबर 18 में काम शुरू करने की बात कही थी इस पर 660 करोड खर्च कर प्रतिवर्ष चार लाख टन कोयला उत्पादित किया जाता। पेंच की धनकशा पर 460 करोड़ व्यय कर दस लाख टन वार्षिक उत्पादन का अनुमान था इसे मार्च 2018 में प्रारंभ करने की बात कही गई थी। विष्णुपुरी नंबर 1 एवं 2 को मिलाकर मेगा ओपन कास्ट खदान को जून 2019 में खोलने की घोषणा थी जिसपर 200 करोड़ खर्च कर 20 लाख टन कोयला उत्पादन का लक्ष्य था। कन्हान की नारायणी कोयला खदान को सितंबर 19 में प्रारंभ किया जाना था जिसका बजट 80 करोड़ और उत्पादन 25 लाख टन अनुमानित था। इसके अलावा पाथाखेड़ा क्षेत्र में तवा 3 एवं गांधीग्राम भूमिगत खदान खोलने की महीनेवार घोषणा की गई थी ।
नारायणी प्रोजेक्ट स्कीम एपु्रव नहीं हुआ है इसलिए मैं इस सम्बंध में कुछ नहीं बता सकता।
मो. साबिर, महाप्रबंधक कन्हान क्षेत्र

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned