Missing: सात दिन बाद भी नहीं मिली बेटे की खबर, मां का बुरा हाल, टकटकी लगाए बैठी है पत्नी

व्यवसाय के सिलसिले में सिवनी जाने के लिए निकला था।

By: ashish mishra

Published: 15 Sep 2021, 12:52 PM IST



छिंदवाड़ा. मां-बाप के लिए बच्चों की कुशलता ही सबसे बड़ी खुशी होती है। अगर बच्चे कुछ पल के लिए दूर हो जाएं तो वे बेचैन हो उठते हैं। सात दिन से एक मां के ऊपर भी कुछ ऐसा ही गुजर रहा है। शनिचरा बाजार निवासी 34 वर्षीय आयुष राजपूत पिता स्व. राजकुमार राजपूत 7 जून को सुबह 11 बजे अपने घर से अपने व्यवसाय के सिलसिले में सिवनी जाने के लिए निकला था। काफी देर बाद जब वह घर नहीं लौटा तो परिवार के लोगों ने सभी जगह उसे खोजने की कोशिश की। मोबाइल भी उसका बंद आ रहा था। थक हारकर परिजनों ने आयुष की गुमशुदगी की सूचना कुंडीपूरा थाने में दर्ज करवाई। सात दिन बाद भी आयुष को कोई खोज खबर नहीं है। विगत एक सप्ताह से आयुष के घर के सदस्य उसे जगह-जगह ढूंढ रहे हैं। पुलिस भी अब तक उसकी तलाश नहीं कर पाई। 7 सितंबर से आयुष का मोबाइल भी बंद आ रहा है। आयुष का एक बड़ा भाई और एक छोटा भाई है। दोनों भाईयों ने सोशल मीडिया के हर प्लेटफॉर्म पर आयुष के गुमशुदा होने की पोस्ट डाली। आयुष की तलाश के लिए हर एक दरवाजा भी खटखटाया। पुलिस अधीक्षक से मिलकर मिन्नतें की, लेकिन अब तक पुलिस के हाथ खाली हैं। परिजनों का कहना है सात दिन में कोई पल ऐसा नहीं बीता जब मां के आंखों में आसू न आए हों। आयुष की पत्नी भावना राजपूत भी बेसुध हो गई है। उसकी नजर हमेशा दरवाजे पर ही टिकी हैं कि कब उनका पति घर लौटेगा और पूरे परिवार के सदस्यों पर खुशी बिखेर देगा। परिवार के हर सदस्य की निगाह हमेशा मोबाइल पर ही लगी रहती है कि कब ऐसी घंटी बजेगी जब आयुष की कुशलता की खोज खबर आएगी। परिजनों ने पुलिस से मदद की गुहार लगाई है।

चार महीनों पूर्व हुई थी शादी
परिवार के लोगों ने बताया है कि आयुष बहुत ही मृदुभाषी एवं शांत स्वभाव का है। उसकी किसी से कोई दुश्मनी भी नहीं है। आयुष राजपूत ट्रांसपोर्ट का व्यवसाय करता है। इतने बड़े व्यवसाय को उसने खुद ही खड़ा किया है। अभी चार माह पहले ही उसकी शादी हुई है। आयुष के इस तरह से गुम हो जाने से उसकी धर्म पत्नी बेसुध हो गई है।


आखिरी लोकेशन नागपुर की
सोशल मीडिया में गुमशुदगी की पोस्ट देखने के बाद एक टैक्सी ड्राइवर ने आयुष के परिवारजनों से संपर्क कर बताया कि 7 जून को दोपहर लगभग 12 बजे उसकी टैक्सी में बैठकर आयुष नागपुर तक गया था और दो घंटे में काम खत्म करके वापस जाने की बात कह रहा था पर फिर वह वापस नहीं आया। इस बात के आधार पर परिजनों ने सदर थाना नागपुर में भी प्राथमिकी दर्ज करवाई। वहां से भी अभी तक कोई जानकारी नहीं मिली है।


इनका कहना है...
आयुष की तलाश में टीम भेजी गई है। हर संभावित जगह पर तलाश की जा रही है। उम्मीद है कि जल्द ही आयुष का पता चल जाएगा।
विवेक अग्रवाल, एसपी, छिंदवाड़ा

ashish mishra Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned