गुमशुदा महिला को परिवार से मिलाया, जानिए क्या है मामला

जामसांवली हनुमान मंदिर में आई मानसिक रोगी महिला के परिवार की तलाशकर ग्रामीण आदिवासी समाज विकास संस्थान के पदाधिकरियों ने रविवार को परिवार से मिलवाया।

छिंदवाड़ा/सौंसर/ जामसांवली हनुमान मंदिर में आई मानसिक रोगी महिला के परिवार की तलाशकर ग्रामीण आदिवासी समाज विकास संस्थान के पदाधिकरियों ने रविवार को परिवार से मिलवाया।
महिला डेढ़ महीने पहले परिवार से बिछड़ गई थी। जब महिला परिवार वालों से मिली तो सबकी आंखें भर आई। जबलपुर निवासी सविता (परिवर्तित नाम) अपने पति के साथ 2 अक्टूबर को इलाज के लिए ट्रेन से जबलपुर से नागपुर जा रही थी लेकिन सविता मध्यरात्रि में पति से बिछड़ गई। उसके बाद से वह इधर-उधर भटकती रही। विगत 14 नवंबर को वह जामसांवली हनुमान मंदिर पहुंची तब वहां मानसिक रोगियों के लिए कार्य करने वाले ग्रामीण आदिवासी समाज संस्थान ने संचालित मानसिक स्वास्थ्य परामर्श केंद्र के कार्यकर्ताओं ने महिला से पूछताछ की। उसके आधार पर महिला के परिवार से संपर्क कर उन्हें बुलाया गया। जिसके बाद उन्हें परिवार से मिलाया। इस दौरान संस्था प्रमुख श्यामराव धवले, समन्यवक पंकज शर्मा, विजय धवले, प्रकाश गौरखेड़े, श्रीराम बोबडे, विजय राऊत, संध्या चौधरी, दुर्गा वाघ प्रमुखता से उपस्थित थे। संस्था के पंकज शर्मा ने बताया कि महिला जब हमें मिली तब उसकी रहने और खाने की व्यवस्था की गई। उसने परिवार की जो जानकारी दी उसके आधार पर संस्था के विजय धवले ने नागपुर में महिला के मायके की तलाश कर जानकारी दी। जिसके बाद महिला की मां, भाई, भाभी, पति, ननद जामसांवली आए और महिला को अपने साथ लेकर गए। ग्रामीण आदिवासी समाज विकास संस्थान द्वारा जामसांवली मंदिर परिसर के साथ क्षेत्र में संजीवनी . मानसिक स्वास्थ्य कार्यक्रम का संचालन किया जा रहा है जिसके माध्यम से मानसिक रोगियों के पुनर्वास के लिए कार्य किए जा रहे हैं।

Sanjay Kumar Dandale
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned