सावन की झड़ी में भी प्यासे 130 से अधिक जलाशय

जल संसाधन विभाग की रिपोर्ट में चार डैम फु ल, अभी उम्मीद से भरे अगस्त-सितम्बर शेष

By: manohar soni

Published: 30 Jul 2021, 10:55 AM IST

छिंदवाड़ा. सावन मास की रिमझिम फुहार के बीच जिले के 130 से अधिक जलाशय अभी प्यासे हैं। केवल चार जलाशय ही फुल हो पाए हैं। शेष डैम में पानी का इंतजार बना हुआ है। करीब 20 फीसदी रिकवरी के बीच जल संसाधन विभाग के अधिकारी मान रहे हैं कि अगस्त और सितम्बर अभी उम्मीदों से भरे हैं। इन दो माह में ये टैंक भरकर किसानों और आम जनमानस को राहत देंगे।
जल संसाधन विभाग की रिपोर्ट के अनुसार जिले के 140 जलाशयों की क्षमता 233.76 एमसीएम है। इनमें से 41.56 एमसीएम 20 प्रतिशत पानी भर गया है। सीताझिर,गोंडीवडोना,सिवनी और बंगाई जलाशय शत प्रतिशत भर गए हैं। करीब 70 जलाशयों में एलएसएल तल स्तर पर भी पानी संग्रहित नहीं हो पाया है। स रिपोर्ट को देखने से साफ है कि मोहखेड़, चौरई, तामिया, परासिया, अमरवाड़ा में बहुत कम बारिश हुई है तो सौंसर, पांढुर्ना में औसत बारिश होने से कुछ जलाशयों में पानी भरा हुआ है। विभागीय अधिकारी बताते हैं कि जून की शुरुआत में अच्छी बारिश हुई थी लेकिन फिर जून के अंतिम सप्ताह से जुलाई के दो सप्ताह तक बारिश न होने का असर जलाशयों के जलभराव पर दिखाई पड़ा। अब जबकि सावन में पुन: बारिश का दौर हुआ है तो आनेवाले अगस्त और सितम्बर माह की बारिश इन जलाशयों को लबालब भर देगी।
....
जलाशयों की स्थिति
शत प्रतिशत फुल -4
50 प्रतिशत से ज्यादा-6
25 प्रतिशत से ज्यादा-60
25 प्रतिशत से कम-60
कुल जलाशय-140
.....
माचागोरा डैम: पेंच नदी में पानी के प्रवाह से बढ़ा जलस्तर
लगातार बारिश से पेंच नदी में पानी का प्रवाह बढ़ रहा है। इससे माचागोरा डैम में जलभराव गुरुवार शाम 619.56 मीटर पहुंच गया। एक दिन पहले डैम में 619.32 मीटर का स्तर था। डैम की कुल क्षमता 625.75 मीटर है। अगस्त और सितम्बर की बारिश शेष है। इस दौरान डैम के पर्याप्त भरने की उम्मीद की जा रही है। पिछले साल 2020 में ज्यादा होने पर डैम को कई बार आठ गेट तक खोलकर पानी छोडऩा पड़ा था।
...
कन्हरगांव डैम: शहरी पेयजल के लिए पर्याप्त नहीं आया पानी
कन्हरगांव डैम में भी इस बारिश में शहरी पेयजल के लिए पर्याप्त पानी नहीं आ पाया है। विभागीय जानकारी के अनुसार डैम की कुल क्षमता 713.80 मीटर है जिसमें से 708.68 मीटर पर पानी एकत्र हुआ है। यह भंडारण क्षमता में करीब 4.53 एमसीएम यानि 20 प्रतिशत है। विभागीय जानकारी के अनुसार छिंदवाड़ा शहर को 7.06 एमसीएम पानी देने का अनुबंध है। इस डैम से आसपास के गांवों को रबी सीजन की फसल सिंचाई के लिए भी पानी दिया जाता है।
...
इनका कहना है..
जुलाई माह में अभी चार टैंक फुल हो पाए हैं तो शेष जलाशयों में 20 प्रतिशत की रिकवरी हुई है। जिले में अच्छी बारिश का इंतजार बना हुआ है। अगस्त-सितम्बर में टैंक पूरी क्षमता से भरने की आशा की जा रही है।
-एसएस मुकासदार, प्रभारी कार्यपालन यंत्री, जल संसाधन विभाग।

manohar soni Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned