विभाग ने फिर की चूक, नैक के लिए तीन कॉलेज को जारी कर दी राशि

इससे पहले भी विभाग ने नैक मूल्यांकन के लिए प्रदेश के कॉलेजों की लिस्ट जारी की थी।

By: ashish mishra

Published: 03 Jan 2019, 01:26 PM IST

 

छिंदवाड़ा. उच्च शिक्षा विभाग ने शासकीय कॉलेजों को विश्व बैंक सहायतित परियोजना मप्र उच्च शिक्षा गुणवत्ता उन्नयन परियोजना अंतर्गत विभिन्न मदों में बजट आवंटन किया है। हालांकि नैक के लिए एक बार फिर विभाग ने चूक करते हुए जिले के तीन कॉलेजों को बजट दे दिया है। गौरतलब है कि इससे पहले भी विभाग ने नैक मूल्यांकन के लिए प्रदेश के कॉलेजों की लिस्ट जारी की थी। इसमें जिले के पीजी कॉलेज, शा. जुन्नारदेव एवं शा. लोधीखेड़ा का नाम शामिल था। जबकि नियम के दायरे में महज एक कॉलेज है। इस सम्बंध में जिले के लीड कॉलेज प्राचार्य डॉ. यूके जैन का कहना था कि मैंने भोपाल में हुई बैठक के दौरान नैक मूल्यांकन के दायरे में आ रहे कॉलेजों का नाम बताया था। विभाग ने रेकॉर्ड अपडेट नहीं किया। ऐसे में नैक के लिए कॉलेजों को बजट आवंटित कर दिया गया है। लीड कॉलेज प्राचार्य की मानें तो पीजी कॉलेज में सितम्बर 2019 से नैक ड्यू है। यानि इस नए वर्ष में कॉलेज को नैक की प्रक्रिया शुरू करनी होगी। ऐसे में उच्च शिक्षा विभाग द्वारा जारी की गई नैक की फीस पीजी कॉलेज उपयोग कर लेगी। वहीं शा. जुन्नारदेव कॉलेज को लगभग दो वर्ष पूर्व ही नैक हो चुका है। ऐसे में इस कॉलेज को आवंटित राशि वापस करनी होगी। तीसरा कॉलेज शा. लोधीखेड़ा है। इसका पहली बार नैक होना है। तीनों ही कॉलेजों को नैक के लिए तीन-तीन लाख रुपए बजट जारी किए
गए हैं।

स्टूडेंड ट्रैकिंग के लिए 11 कॉलेजों को मिला बजट
विभाग ने जिले के 11 कॉलेजों को स्टूडेंट ट्रैकिंग के लिए बजट आवंटित किया है। इसके साथ ही निर्देश भी जारी किए हैं। कॉलेजों को निर्धारित नियम का पालन करते हुए बजट खर्च करना है। पीजी कॉलेज को तीन लाख 60 हजार, गल्र्स कॉलेज को तीन लाख 30 हजार, पेंचवैली कॉलेज परासिया को दो लाख 60 हजार, बिछुआ एवं जुन्नारदेव कॉलेज को अलग-अलग दो लाख 40 हजार, साइंस कॉलेज पांढुर्ना को दो लाख 30 हजार, तामिया एवं सौंसर कॉलेज को अलग-अलग दो लाख 20 हजार, चांद एवं दमुआ कॉलेज को अलग-अलग दो लाख 10 हजार एवं लोधीखेड़ा कॉलेज को दो लाख पांच हजार रुपए बजट आवंटित किया गया है।

लौटानी होगी राशि
जिले के लीड कॉलेज प्राचार्य डॉ. यूके जैन का कहना है कि मैंने दोबारा रिमाइंडर भेजा था। इस बार नैक के दायरे में सिर्फ शासकीय लोधीखेड़ा कॉलेज ही है। पीजी कॉलेज के लिए इस वर्ष प्रक्रिया शुरू होगी। जो कॉलेज नैक के दायरे में नहीं हैं उन्हें बजट की रािश लौटानी होगी।

 

Patrika
ashish mishra Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned