विधायक की ये सौगात अब बनी कबाड़

manohar soni | Publish: Sep, 07 2018 11:42:49 AM (IST) Chhindwara, Madhya Pradesh, India


भरतादेव पातालकोट हर्बल एवं बांस मूल्य प्रशिक्षण सह उत्पादन केन्द्र पर लगा ताला


छिंदवाड़ा.भरतादेव में बना पातालकोट हर्बल एवं बांस मूल्य प्रशिक्षण सह उत्पादन केन्द्र बंद होने पर करोड़ों रुपए की मशीनें कबाड़ में तब्दील हो गई है। वन विभाग की लापरवाही और उदासीनता के चलते तीन करोड़ रुपए का यह प्रोजेक्ट बर्बाद हो गया है। अब तो विभागीय अधिकारियों ने इसकी बिजली भी कटवाकर इति श्री कर दी है।
देखा जाए तो वर्तमान विधायक चौधरी चंद्रभान सिंह ने वर्ष 2006 में तत्कालीन कृषि मंत्री की हैसियत से तीन करोड़ रुपए कृषि मण्डी निधि से भरतादेव के इस प्रोजेक्ट के लिए मंजूर कराए थे। इसमें 80 लाख रुपए प्रशिक्षण केन्द्र और हर्बल डिस्टीलेशन प्लांट भवन के नाम पर खर्च किए गए। दो करोड़ रुपए की मशीनें हर्रा-बहेड़ा की प्रोसेसिंग के लिए खरीदी। प्लान यह था कि छिंदवाड़ा,सिवनी और बालाघाट जिले की लघु वनोपज समितियों के संग्राहकों से कच्चा माल हर्रा,बहेड़ा खरीदा जाएगा और उन्हें प्रशिक्षण देकर जड़ी-बूटियों की खेती करने के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा। इस प्लान पर कभी भी काम नहीं हो सका।

अधिकारियों ने खर्च किए लाखों रुपए
वर्ष2014-15 में तत्कालीन डीएफओ और एसडीओ पीएल कांवरे ने इस प्लांट पर कोयला,हर्रा,बहेड़ा खरीदी और बिजली बिल तथा मजदूरी पर करीब 60 लाख रुपए दिए। इसका लिक्विड प्रोडक्ट भी बनाया गया। मार्केटिंग के अभाव में यह उत्पाद इस भवन में रखे-रखे सड़ गया है। अब तो इस पर अधिकारी-कर्मचारियों ने ताला डालकर कबाड़खाने की शक्ल दे दी है। इस तरह 60 लाख रुपए का शासन का सीधा-सीधा अपव्यय हुआ है। बताते हैं कि राशि खर्च करने की अनुमति भोपाल के वरिष्ठ अधिकारियों से भी नहीं ली गई थी।

....
मजदूर अलग हो गए बेरोजगार
इस प्लांट में लापरवाही के चलते 60 लाख रुपए का तैयार उत्पाद खराब हुआ है तो वहीं दस मजदूर भी बेरोजगार हो गए हैं। एक लाख रुपए का कोयला सडऩे की कगार पर है। प्लांट के अंदर मशीनें अलग कबाड़ बन रही है। इस प्लांट को किसी निजी एजेंसी के हाथों संचालित किया जाता तो शायद यह मुनाफे में आ जाता और मजदूरों को रोजगार के साथ वन विभाग की नियमित आय भी हो जाती। फिलहाल इसके भारी खर्च को देखते हुए वन अधिकारियों ने इसकी मशीनों को सड़ाकर कबाड़खाना बनाना ज्यादा उचित समझा है।

.....
इनका कहना है..
पातालकोट हर्बल प्लांट के उत्पाद की मार्केटिंग न हो पाने से उसे बंद करने की स्थिति बनी। हम पुन: निजी फर्म के हाथों इसे संचालित करने की संभावनाएं तलाश रहे हैं।
-एसएस उद्दे,डीएफओ,पूर्व वनमण्डल छिंदवाड़ा।
....

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned