Lockdown: मुश्किल दौर में मरीज हो रहे परेशान

बसे सुविधायुक्त मेडीकल सेवा के रूप में पहचानी जाने वाली 108 निशुल्क स्वास्थ्य सेवा पिछले एक सप्ताह से बंद होने के कारण मरीजों को रैफर करने में परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

By: Sanjay Kumar Dandale

Published: 31 Mar 2020, 05:48 PM IST

छिंदवाड़ा/पांढुर्ना/ सबसे सुविधायुक्त मेडीकल सेवा के रूप में पहचानी जाने वाली 108 निशुल्क स्वास्थ्य सेवा पिछले एक सप्ताह से बंद होने के कारण मरीजों को रैफर करने में परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।
बताया जा रहा है कि वाहन मेें बड़ी खराबी आ गई जिसे सुधारने के लिए छिंदवाड़ा में खड़ा कराया गया है। एक सप्ताह १०८ वाहन की सुविधा मरीजों को नहीं मिल पा रही है। इस दौरान सौंसर की 108 वाहन सेवा की मदद ली जा रही है परंतु वह भी लगातार व्यस्त रहने के कारण गरीब मरीजों को इसका लाभ नहीं मिल पा रहा है। 108 वाहन के नहीं होने का भार सिविल अस्पताल के रोगी कल्याण समिति की एंबुलेंस और निजी दो एंबुलेंस पर आ गया है।
चुकाने पड़ रहे रुपए: 108 वाहन के रहते गरीब परिवारों को छिंदवाड़ा या नागपुर रैफर होने पर कोई शुल्क नहीं चुकाना पड़ता था वहीं दूसरी ओर मरीजों को घटनास्थल या उनके गंतव्य से अस्पताल तक लाने की निशुल्क सुविधा मिल रही थी लेकिन सेवा बंद होने से हालात विपरीत हो गए है। मरीजों को 1500 से 2000 रुपए तक चुकाने पड़ रहे है।
बुखार और सांस लेने में तकलीफ होने पर मरीज को किया रैफर: रविवार देर रात तीन दिन से सिविल अस्पताल में भर्ती मरीज को बुखार और सांस लेने में तकलीफ के चलते नागपुर रैफर किया गया है। इसी तरह बाहर से आए एक मरीज की लगातार छह दिनों बाद भी सर्दी जुकाम ठीक नहीं होने पर उसे क्वारेंटाइन में रहने कहा गया है। चिकित्सक ने बताया कि नागपुर से लौटे 25 वर्षीय युवक को क्वारेंटाइन में रहने के लिए कहा गया हैं। उसे सर्दी जुकाम है।

Sanjay Kumar Dandale
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned