कुंड के गंदे पानी की हुई निकासी, रविवार को किया जाएगा गहरीकरण

पातालेश्वर मंदिर स्थित कुंड आज हम सबकी वजह से मैला हो गया है।

By: ashish mishra

Published: 24 May 2018, 11:54 AM IST

 

छिंदवाड़ा. पातालेश्वर मंदिर स्थित कुंड आज हम सबकी वजह से मैला हो गया है। ऐसे में हम सभी को इसे स्वच्छ करने का प्रण लेना होगा। इसी उद्देश्य से पत्रिका ने ‘अमृतं जलम्’ महाअभियान के तहत शहर के समाजसेवी संगठन, विद्यार्थियों के संयुक्त प्रयास से पातालेश्वर मंदिर स्थित कुंड के कायाकल्प का बीड़ा उठाया है। २० मई को इसकी शुरुआत भी हो चुकी है। नगरनिगम के सहयोग से बुधवार को कुंड के गंदे पानी की निकासी की गई। रविवार को सुबह सात बजे कुंड के गहरीकरण का कार्य किया जाएगा। जलस्रोत के संरक्षण की इस पहल को आइए हम सब सार्थक बनाएं। रविवार को सुबह सात बजे पातालेश्वर मंदिर पहुंचकर श्रमदान करें।

सफाई का संकल्प सराहनीय
पातालेश्वर धाम समिति अध्यक्ष रमेश पोफली का कहना है कि पातालेश्वर धाम जागृत तीर्थ स्थल है, जहां भगवान शिव के विराजमान होने पर मन को शांति और आध्यात्मिक अनुभूति होती है। यहां के प्राकृतिक कुंड की सफाई का संकल्प सराहनीय पहल है। वहीं सोनी कम्प्यूटर के डायरेक्टर मनोज सोनी कहते हैं कि पातालेश्वर मंदिर हम सभी की आस्था का केंद्र है। इसे हर दिन सहेजने की जरूरत है। सभी को मिलकर श्रमदान करना होगा और आने वाले समय में भी आगे बढक़र इसे सहेजने का बीड़ा उठाना होगा। समाजसेवी विनोद तिवारी कहते हैं कि बचपन में पढ़ा करते थे कि पानी ही जीवन है। आज हमें बूंद-बूंद को सहेजने के लिए प्रयास करना पड़ रहा है। इस प्रयास को और तेज न किया गया तो वह दिन दूर नहीं जब आने वाला कल हमें कोसेगा। छात्रा मानसी चौरसिया कहती हैं कि पातालेश्वर मंदिर स्थित कुंड के पास बैठने से आध्यात्मिक अनुभूति होती है। इसे स्वच्छ रखने की जरूरत है। यह पहल सराहनीय है। हम सभी को मिलकर इसे सार्थक करना होगा। छात्रा मानसी चौरसिया कहती हैं कि पातालेश्वर मंदिर स्थित कुंड के पास बैठने से आध्यात्मिक अनुभूति होती है। इसे स्वच्छ रखने की जरूरत है। यह पहल सराहनीय है। हम सभी को मिलकर इसे सार्थक करना होगा।

ashish mishra Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned