मोरों की मौत पर खुली नींद, अब मशक्कत और भागदौड़

मोरों की मौत पर खुली नींद, अब मशक्कत और भागदौड़
Peacock's death

Prabha Shankar Giri | Updated: 01 Jun 2019, 08:00:00 AM (IST) Chhindwara, Chhindwara, Madhya Pradesh, India

मोरों के आवास स्थल पर खोदी झिरिया, टैंकर से पहुंचाया पानी

छिंदवाड़ा/अम्बामाली. पश्चिम वन मंडल के अंतर्गत सांवरी रेंज की शंकरपुर बीट के जंगल में राष्ट्रीय पक्षी मोरों की मौत के बाद वन विभाग के अधिकारी-कर्मचारियों ने झिरिया खुदवा दी और उनके आवास स्थल पर टैंकर से पानी का इंतजाम करवाया। हाल ही में डीएफओ डॉ. किरण बिसेन समेत आला अधिकारियों की टीम ने शंकरपुर के जंगल में पहुंचकर निरीक्षण किया था और वन कर्मचारियों को पानी की व्यवस्था करने पानी की व्यवस्था कराए जाने के निर्देश दिए गए थे। इसके बाद स्थानीय कर्मचारियों ने भाकूझिरिया स्टापडैम के पास एक छोटा सा कुआं खोदकर वन्य प्राणियों के लिए पानी की व्यवस्था की। इस झिरिया में खुदाई के बाद पानी निकला। इसके साथ ही टैंकर से भी पानी पहुंचाया।

पूरे जंगल में हो झिरिया की खुदाई
भाकूझिरिया की तरह जंगल के दूसरे क्षेत्र में अगर वन विभाग बड़े पैमाने पर खुदाई कराए या कोई बड़ा जल स्रोत या तालाब बनाए तो वन्य प्राणियों के लिए पर्याप्त पानी व्यवस्था हो सकती है। वन विभाग से क्षेत्र में बड़ा तालाब या डैम बनाने की मांग स्थानीय ग्रामीणों ने की है। फिलहाल वन विभाग द्वारा अभी तो वन्यजीवों के लिए थोड़ी सी व्यवस्था कर दी गई है। जिस पर पत्रिका द्वारा मोरों की मौत की खबर के साथ ध्यान दिलाया गया था। पानी के इंतजाम के साथ स्थानीय कर्मचारियों को लगातार जल संरक्षण के प्रति नसीहत देने की जरूरत है। वे अक्सर लापरवाही करते हैं।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned